नई दिल्ली. पीएम मोदी के एक आइडिया से कमाल हो गया है इससे सिर्फ साल भर में सरकार को 27 हजार करोड़ रुपए की बचत हुई है. ऐसा डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर से हुआ है और सरकार ने इस स्कीम को आधार कार्ड से जोड़ा था. इस बीच फर्जी ढंग से सब्सिडी हासिल करनेवालों का धंधा बंद हो गया.
 
सोमवार को दो घंटे तक डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर से जुड़ी तमाम योजनाओं की समीक्षा के बाद पीएम मोदी ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी है.
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक साल 2015-16 में सरकारी सब्सिडी को सीधे सही जरूरतमंदों के खाते में पहुंचाने से बड़ा फर्जीवाड़ा रुक गया है. बता दें कि सब्सिडी लेनेवालों के खाते को आधार कार्ड से जोड़ने से ये कमाल हुआ. ऐसा करने से कुल 1 करोड़ 60 लाख से अधिक जाली राशन कार्ड की पहचान हुई और उन्हें मिलनेवाली 10 हजार करोड़ रुपए से अधिक की सब्सिडी बंद कर दी गई.
 
इसके साथ ही 2015-16 में पहल योजना से फर्जी ढंग से सब्सिडी हासिल करने वाले 3 करोड़ 50 लाख लोगों की पहचान हुई. इनका नाम हटने के बाद 14 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की बचत हुई.
 
वीडियो पर क्लिक करके पढ़िए पूरी खबर