नई दिल्ली. लोकसभा में कांग्रेस सदस्यों ने लगातार दूसरे दिन आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदे को लेकर पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी पर की गई टिप्पणी का मुद्दा उठाने की कोशिश की. मोदी ने केरल और तमिलनाडु की चुनावी रैलियों में यह टिप्पणी की थी. 
 
दोपहर के करीब जैसे ही सदन में प्रश्नकाल समाप्त हुआ, कांग्रेस सदस्यों ने इस मुद्दे को उठाने की कोशिश की. लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि वह सभी स्थगन प्रस्तावों को अस्वीकृत करती हैं. उन्होंने साथ ही कहा कि कांग्रेस के सदस्य एम. वीरप्पा मोइली द्वारा पेश एक विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव उनके विचाराधीन है. महाजन ने सदस्यों को इस मुद्दे को उठाने या इस पर बोलने की इजाजत नहीं दी. 
 
कांग्रेस के सदस्य शून्यकाल के दौरान ‘प्रधानमंत्री जवाब दो’ जैसे नारे लगा रहे थे. कांग्रेस सदस्य प्रधानमंत्री की टिप्पणी पर सरकार को जवाब देने के लिए कह रहे थे. कांग्रेस सदस्यों ने सोमवार को भी इस मुद्दे को उठाने की कोशिश की थी. बार-बार कोशिश के बाद भी जब लोकसभा अध्यक्ष ने यह मुद्दा उठाने की इजाजत नहीं दी थी तो शून्यकाल के दौरान उन्होंने सदन का बहिर्गमन कर दिया था. हेलीकॉप्टर सौदे को लेकर सोनिया गांधी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘इतालवी कनेक्शन’ वाली टिप्पणी को लेकर कांग्रेस सदस्यों ने सोमवार को मल्लिकार्जुन खड़गे के नेतृत्व में सरकार से स्पष्टीकरण मांगा था.
 
बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को केरल की चुनावी सभाओं में हेलीकॉप्टर सौदे को लेकर सोनिया गांधी पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा था कि भारत सरकार ने नहीं इटली की एक अदालत ने कांग्रेस प्रमुख का नाम लिया है. उन्होंने भीड़ से पूछा था, क्या इटली का कोई ऐसा है जिसे आप जानते हैं? क्या इटली में आपके रिश्तेदार हैं? इसके बाद उन्होंने कहा था-हर कोई जानता है कि इटली से किसका संबंध है.