उज्जैन. सिंहस्थ कुंभ मेले का दूसरा शाही स्नान आज सुबह से शुरु हो चुका है. तड़के सुबह 4 बजे सबसे पहले जूना अखाड़ा के नागा साधुओं ने पवित्र क्षिप्रा नदी नदी में डुबकी लगाई. इसके बाद 13 अखाड़ों के साधु-संतों के डुबकी लगाने का सिलसिला दोपहर करीब 12 बजे तक जारी रहेगा. इसके बाद आम लोग क्षिप्रा नदी में शाही स्नान करेंगे.
 
बता दें कि उज्जैन कुंभ का इसके बाद केवल एक शाही स्नान ही रह जाएगा. इस शाही स्नान को लेकर राज्य सरकार और सिंहस्थ कुंभ प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए है. हजारों की संख्या में पुलिसकर्मियों को घाटों और शहर की सुरक्षा के लिए तैनात किया गया है.
 
अक्षय तृतीया की वजह से उमड़ी भीड़
शासकीय जीवाजी वेधशाला उज्जैन के अधीक्षक डॉ राजेन्द्र प्रकाश गुप्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि नौ मई, 2016 को बुध ग्रह सूर्य और पृथ्वी के मध्य आ रहा है. मेला प्रशासन के अनुसार आज अक्षय तृतीया पड़ने की वजह से इसे और भी अधिक शुभ माना जा रहा है. वहीं अधिकारियों का यह भी कहना है कि इस स्नान के लिए लगभग 25 लाख से अधिक श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ने की संभावना है. 
 
हर 12 साल बाद मेले का आयोजन
सिंहस्थ मेले में शामिल होने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों से लोग इस पवित्र शहर में जुटे हैं. कुंभ के इस मेले का आयोजन हर 12 साल बाद किया जाता है. उज्जैन को देश में मौजूद 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक और भगवान महाकालेश्वर का निवास भी माना जाता है.