कोलकाता. पश्चिम बंगाल में कोलकाता की जादवपुर यूनिवर्सिटी में शुक्रवार को जमकर बवाल हो गया. बीजेपी के रूपा गांगोली की अगुवाई में छात्रों ने छेड़छाड़ के विरोध में खूब हंगामा किया. इस दौरान बीजेपी की स्टूडेंट विंग अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद(एबीवीपी) के छात्रों और लेफ्ट समर्थक छात्रों के बीच जोरदार भिड़ंत हो गई. 
 
शुक्रवार रात यहां ‘हेट स्टोरी’ के डायरेक्टर विवेक अग्निहोत्री की राजनीतिक कटाक्ष वाली फिल्म ‘बुद्धा इन ट्रैफिक जाम’ की स्क्रीनिंग होनी थी. लेकिन लेफ्ट समर्थक छात्र नहीं चाहते थे कि अनुपम खेर स्टारर इस मूवी की स्क्रीनिंग कैम्पस में हो. प्रदर्शन कर रही छात्राओं के साथ छेड़छाड़ के बाद बवाल शुरू हो गया. स्क्रीनिंग की पहले परमीशन भी नहीं दी गई थी. लेकिन शुक्रवार को जब मूवी दिखाई जाने लगी तो हिंसा हुई. इस दौरान एबीवीपी के छात्र और लेफ्ट समर्थक छात्रों के बीच जोरदार लड़ाई हो गई. 
 
एबीवीपी इस फिल्म को सपोर्ट कर रही थी, जबकि लेफ्ट पार्टियों के समर्थन वाली एफएएस और डीएसएफ इसका विरोध कर रहीं थीं. एफएएस का आरोप है कि हिंसा एबीवीपी से जुड़े थिंक इंडिया ग्रुप की वजह से हुई. उनका ये भी आरोप है कि घटना में कुछ बाहरी लोग शामिल थे जिन्होंने लड़कियों के साथ छेड़खानी की.
 
यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर सुरंजन दास रात के करीब 10 बजे कैंपस पहुंचे. इसके कुछ देर बाद ही बीजेपी नेता रूपा गांगुली और कुछ बीजेपी मेंबर्स भी वहां पहुंच गए. इन लोगों ने उन चार स्टूडेंट्स को छुड़ाने की कोशिश की जिन्हें एफएएस और डीएसएफ के लोगों ने बंधक बना लिया था. वीसी के दखल के बाद बंधक स्टूडेंट्स को छुड़ा लिया गया. देर रात पुलिस ने चार बाहरी लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया. इस यूनिवर्सिटी में फरवरी में जेएनयू मुद्दे को लेकर भी बवाल हुआ था और कथित तौर पर देशविरोधी नारे लगे थे.