नई दिल्ली. लोकसभा में कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बीजेपी नेताओं द्वारा अपने भाषणों में इशारों में सोनिया गांधी पर निशाना साधने के लिए बीजेपी पर हमला किया. सिंधिया ने सत्ता पक्ष की ओर इशारा करते हुए कहा, “सोनिया गांधी एक सिंहनी हैं, जिनसे उन्हें (बीजेपी) डर लगता है.” अगस्तावेस्टलैंड के भारत स्थित कार्यालय में इटली के एक अधिकारी पीटर हुलेट के एक पत्र का संदर्भ देते हुए सिंधिया ने कहा, “हुलेट ने लिखा है कि सोनिया गांधी और उनके सलाहकार ऐसे लोग हैं, जिनका उच्चायुक्त को सम्मान करना चाहिए.” 
 
सिंधिया ने पूछा, “क्या यह सरकार इस बात का अर्थ समझा सकती है कि विभिन्न देशों के उच्चायुक्त तथा राजनयिक प्रमुख भ्रष्टाचार के मामलों में हमारे नेताओं से मिलना चाहेंगे.” उन्होंने कहा, “बिना हस्ताक्षर वाले अप्रमाणिक कागज के टुकड़ों के अलावा, गांधी का नाम किसी भी प्रामाणिक दस्तावेज में कहीं नहीं है.”
 
सिंधिया ने सौदे के बिचौलिया क्रिश्चियन मिशेल का भी संदर्भ देते हुए कहा, “मैंने अपने जीवन में किसी भी गांधी से कभी मुलाकात नहीं की. मुझे इससे संबंधित न कोई संदेश, न कोई पत्र और न ही कोई संदर्भ याद है. मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि गांधी को कोई पैसा नहीं दिया गया.”
 
उन्होंने मिलान अदालत के न्यायाधीश मारको मेगा के फैसले का संदर्भ देते हुए कहा, “हमारे पास सोनिया गांधी के खिलाफ कोई सबूत नहीं हैं. तथ्य में केवल इस एक बात का जिक्र है कि वीवीआईपी हेलीकॉप्टरों में यात्रा करने वालों में एक वीवीआईपी सोनिया गांधी भी होंगी.”
 
सिंधिया ने कहा, “बीजेपी को इस सवाल का जवाब जरूर देना चाहिए कि उसने 36 राफेल विमानों का सौदा नौ अरब डॉलर में क्यों किया, जबकि यूपीए सरकार ने 125 विमानों के लिए सौदा 10 अरब डॉलर में किया था.” लोकसभा में शुक्रवार का दिन बेहद हंगामेदार रहा, जहां अगस्ता वेस्टलैंड मामले को लेकर सत्ता तथा विपक्ष के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर चला.