नई दिल्ली. मोदी सरकार के 33 अधिकारियों का काम संतोषजनक न होने की वजह से उन्हें वक्त से पहले रिटायरमेंट लेने को कहा गया है. मोदी सरकार में ऐसा पहली बार हुआ है जब एक साथ 33 क्लास वन अधिकारियों को रिटायरमेंट लेने को कहा गया है.
 
पिछले 2 सालों में अनुशासनहीनता के चलते 72 अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जा चुकी है. बता दें कि इससे पहले जिन 105 अधिकारियों के खिलाफ यह कार्रवाई की गयी है वह सभी क्लास वन अधिकारी थे और उनकी उम्र 50 वर्ष से अधिक थी. वित्त मंत्रालय के अधिकारी का कहना है कि यह कार्रवाई एक संदेश है ताकि खराब प्रदर्शन और जनता को परेशान किया जाना बंद हो.
 
काम न करने वालों की बनाई गई लिस्ट
मोदी ने ऐसे अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए निर्देश दिए थे जो काम नहीं करते. बाद में यह भी आदेश दिए गए कि ऐसे अधिकारियों की लिस्ट बनाई जाए. इसके बाद केंद्र ने ऐसे 122 डेप्युटी सेक्रटरी स्तर पर अधिकारियों की लिस्ट बनाई. इसमें 17 अधिकारी रक्षा मंत्रालय, 13 उच्च शिक्षा मंत्रालय, 7 स्वास्थ्य मंत्रालय, 6 वाणिज्य मंत्रालय के अफसर थे.