नई दिल्ली. अरुणाचल प्रदेश को भारत का अभिन्न अंग बताने वाले अमेरिकी राजनयिक के बयान पर चीन ने ऐतराज जताया है. चीन ने कहा है कि वह वॉशिंगटन से सफाई मांगने की तैयारी में है, क्योंकि भारत-चीन सीमा विवाद में किसी गैर-जिम्मेदार तीसरे पक्ष की दखलंदाजी मामले को और उलझा देगी. चीन के विदेश मंत्रालय ने एक सवाल के लिखित जवाब में कहा, ‘चीनी पक्ष ने रिपोर्ट पर गौर किया है अब अमेरिकी पक्ष से सत्यापन और स्पष्टीकरण के लिए कहा जाएगा.’ मंत्रालय ने आगे कहा, ‘लेकिन साफ तौर पर अमेरिकी पक्ष का बयान तथ्यों से पूरी तरह परे है.’
 
भारत का अभिन्न अंग है अरुणाचल प्रदेश
चीनी विदेश मंत्रालय से कोलकाता में अमेरिकी महावाणिज्यदूत क्रेग. एल. हॉल के उस बयान के बारे में पूछा था, जिसमें अमेरिकी राजनयिक ने कहा था कि वॉशिंगटन अरुणाचल प्रदेश को भारत का अभिन्न अंग मानता है. बीते 28 अप्रैल को ईटानगर में अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री कलिखो पुल के साथ अपनी मुलाकात के दौरान हॉल ने कहा था कि अमेरिकी सरकार का रुख पूरी तरह साफ है कि अरुणाचल प्रदेश भारत का एक अभिन्न अंग है.
 
‘चीन और भारत समझदार हैं’
चीन अरुणाचल प्रदेश को दक्षिणी तिब्बत कहता है और उस पर अपनी दावेदारी जताता रहा है. अपने जवाब में चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा कि चीन और भारत समझदार हैं. अपने मुद्दों से खुद निपटने और 2 लोगों के बुनियादी और दीर्घकालिक हितों की रक्षा करने में काफी सक्षम हैं.