नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शैक्षणिक योग्यता से जुड़े विवाद के बीच एक मीडिया रिपोर्ट सामने आई है, जिसमें बताया गया है कि मोदी ने साल 1983 में गुजरात यूनिवर्सिटी से पॉलिटिकल साइंस में एमए किया था. इसके अलावा यह भी कहा जा रहा है कि इसमें मोदी ने 62% मार्क्स हासिल किए थे.
 
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मोदी की डीग्री से संबंधित जानकारी की मांग की थी. केजरीवाल की मांग पर सेंट्रल इन्फॉर्मेशन कमिशन(सीआईसी) के इन्फॉर्मेशन कमिश्नर एम. श्रीधर आचार्यलु ने शुक्रवार को दिल्ली और गुजरात यूनिवर्सिटीज को ऑर्डर दिया था कि वे मोदी के एजुकेशनल क्वालिफिकेशन के रिकॉर्ड्स जारी करें.
 
हालांकि मोदी के ग्रैजुएशन पर अभी तक कोई जानकारी नहीं मिली है. गुजरात यूनिवर्सिटी ने पहले जानकारी देने से काफ मना कर दिया था. यूनिवर्सिटी ने कहा था कि किसी एल्युमिनी की पर्सनल डिटेल शेयर नहीं की जा सकती है. इसके अलावा यह भी कहा गया था कि 20 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड्स आरटीआई के जवाब के तौर पर पब्लिक नहीं किए जा सकते. 
 
मिली जानकारी के मुताबिक मोदी ने एमए के फर्स्ट ईयर में 400 में से 237 और सेकंड ईयर में 400 में से 262 मार्क्स हासिल किए. उनका एमए में टोटल 800 में से 499 मार्क्स रहे हैं. मोदी के पाठ्यक्रम में पॉलिटिकल साइंस, इंडियन पॉलिटिकल अनैलिसिस और साइकॉलजी ऑफ पॉलिटिक्स विषय शामिल थे.