नई दिल्ली. जमीन सौदों की जांच को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा ने शुक्रवार को कहा कि राजनीतिक फायदे के उद्देश्‍य से इसकी जांच नहीं होनी चाहिए. गौरतलब है कि हरियाणा की बीजेपी सरकार ने वाड्रा से जुड़े विवादित जमीन सौदे की जांच के लिए एक सदस्यीय उच्चस्तरीय आयोग गठित किया है.  इसके लिए दिल्ली हाईकोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस एसएन ढींगरा को नियुक्त किया गया है.

वाड्रा ने यहां एक बयान में कहा,  ‘हरियाणा सरकार ने जांच का आदेश दिया है. नतीजा आने दें.’ उन्होंने समस्त कानूनों का पूरी तरह पारदर्शी तरीके से पालन किये जाने पर जोर देते हुए कहा,  ‘ना तो मेरे पास और न ही मुझसे जुड़े किसी भी व्यक्ति के पास छिपाने के लिए कुछ है.’  उन्होंने कहा, ‘मैं गंभीरता के साथ उम्मीद करता हूं कि जांच का इस्तेमाल राजनीतिक बदले के लिए नहीं किया जाएगा.’ 

जांच आयोग पर कांग्रेस ने कहा है कि गांधी परिवार किसी की धमकी से नहीं डरता. बीजेपी आरोप लगाती रही है कि हरियाणा में कांग्रेस के राज में सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा को सस्ती जमीन दी गई थी. हरियाणा में पूर्व भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व वाली सरकार के कार्यकाल के दौरान चकबंदी विभाग के निदेशक पद पर तैनात आईएएस अधिकारी अशोक खेमका ने भी जमीन सौदे पर सवाल उठाए थे.