मुंबई: भूमाता ब्रिगेड की अध्यक्ष तृप्ति देसाई की तरफ से हाजी अली दरगाह में महिलाओं को प्रवेश देने की मांग को लेकर छिड़ा आंदोलन गुरुवार को पूरा नहीं हो पाया है.  तृप्ति देसाई ने गुरुवार को मुंबई की हाजी अली दरगाह में घुसने की दो बार कोश‍िश की. लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिल सकी. बाद में तृप्ति और उनके समर्थक सीएम निवास की ओर बढ़ने लगे, जहां पर मुंबई पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया.
 
देसाई को करना पड़ा जोरदार विरोध का सामना
तृप्ति देसाई को हाजी अली दरगाह में प्रवेश करने पर जोरदार विरोध का सामना करना पड़ा, जिसके चलते पुलिस ने उन्हें दरगाह से दूर रखा. वैसे, तृप्ति के इस रुख से आंदोलन के आयोजक और उनके बीच की मत भिन्नता स्पष्ट हुई. आंदोलन दरगाह से दूर आंदोलन कर अपनी बात रखना चाहता था. आंदोलन के समन्वयक फिरोज मिठिबोरवाला ने कहा कि हम दरगाह में जाने पर अडिग नहीं हैं.
 
2011 के बाद से महिलाओं के मजार तक जाने पर है पाबंदी 
हाजी अली दरगाह में 2011 के बाद महिलाएं मजार तक नहीं जा सकती. इसके खिलाफ बॉम्बे हाइकोर्ट में याचिका दायर की गई है, जिस पर फैसला आना अभी बाकी है. इससे पहले महाराष्ट्र के शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं के प्रवेश का सफल अभियान चलाने वालीं भूमाता ब्रिगेड की तृप्ति देसाई ने कहा था  कि वे इस दरगाह में प्रवेश करके रहेंगी.
 
तीनों खान से भी की अपील
तृप्ति देसाई ने मामले में बॉलीवुड की तीनों सुपरस्टार खान सलामन, शाहरुख और आमि‍र खान से अपील की है कि वो इस मामले में अपना रुख साफ करें. तृप्ति ने कहा, ‘मुझे लगता है कि शाहरुख, सलमान खान और आमिर खान को भी इस मामले में अपना रुख साफ करना चाहिए. इससे समाज पर बड़ा असर पड़ेगा. ऐसा करने से उनके फैंस भी हमारी बराबरी की लड़ाई में साथ जुड़ेंगे.’
 
‘जबरदस्ती की तो तृप्ति पर फेंकेगे स्याही’
दूसरी ओर, एमआईएम नेता रफत हुसैन का कहना है‍ कि अगर तृप्ति‍ देसाई दरगाह में जबरन घुसने की कोशि‍श करती हैं तो उनके ऊपर काली स्याही फेंकी जाएगी. हुसैन ने कहा, ‘हमारे धर्म के खिलाफ जाएंगे तो हम कालिख 100 फीसदी पोतेंगे. तृप्ति देसाई कानून हाथ में ले सकती हैं तो हम क्यों नहीं?’ रफत हुसैन ने आगे कहा कि तृप्ति मुस्लिम औरतों को भड़काने की कोशिश कर रही हैं.