पटना. बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और HAM सुप्रीमो जीतनराम मांझी के आरक्षण खत्म करने के बयान पर कांग्रेस ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. कांग्रेस के प्रदेश सचिव और सिकंदरा के विधायक बंटी चौधरी ने कहा है कि मांझी आरएसएस को खुश करने और नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री बनने के लिए आरक्षण विरोधी बयान दे रहे हैं.
 
बंटी चौधरी ने कहा कि मांझी के इस बयान से उनका दलित और पिछड़ा विरोधी चेहरा एक्सपोज हो गया है. उन्होंनें कहा कि आरक्षण विरोधी बयान देकर मांझी ने बाबा साहेब आंबेडकर और देश के करोड़ों लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाया है.
 
 
उन्होंने कहा कि मांझी ने आर्थिक आधार पर आरक्षण की वकालत की है जबकि संविधान में आर्थिक आधार पर नहीं बल्कि सामाजिक और शैक्षिक पिछड़ेपन पर वंचित तबकों को आरक्षण मिला है. बंटी ने कहा कि मांझी RSS को खुश करने के लिए भारतीय संविधान का अपमान कर रहे हैं.
 
कांग्रेस नेता ने कहा कि मांझी को लगने लगा है कि अब RSS को खुश करने से ही उनको केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है इसलिए वे व्यक्तिगत हित के लिए दलित-पिछड़ों के अधिकार को उनसे छीन लेने की वकालत करने लगे हैं. बंटी ने कहा कि कांग्रेस आरक्षण विरोधियों के मंसूबे कामयाब नहीं होने देगी.