नई दिल्ली. जवाहर लाल नेहरु यूनिवर्सिटी प्रशासन के फैसले को मानने से छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने मना कर दिया है. प्रशासने के इस कदम का विरोध करते हुए कन्हैया ने कहा कि छात्रसंघ ने शुरू से ही जांच समिति को खारिज किया है. साथ ही यह हाई लेवल कमेटी ही अलोकतांत्रिक तरीके से बनाई गई.
 
किया जुर्माना ना देने का ऐलान
कमेटी को नहीं मानते हुए कन्हैया ने कहा कि ना ही कमेटी को रिपोर्ट को मानेंगे और ना ही रिपोर्ट के आधार पर तय की गई सजा को मानेंगे. कन्हैया ने कहा, ‘हमने संकल्प लिया था कि इस कमेटी को ही हम नहीं मानेंगे.’
 
बता दें कि जांच समिति की रिपोर्ट के बाद कन्हैया कुमार पर दस हजार का जुर्माना लगाया गया है. उमर खालिद और अनिर्बान को एक समेस्टर के लिए सस्पेंड कर दिया गया है.