हरिद्वार. बाबा रामदेव ने पतंजलि प्रोडक्ट्स के बारे में जानकारी देते हुए कहा है कि देसी ब्रांड ने विदेशी ब्रांड को पछाड़ दिया है. बाबा रामदेव ने कहा कि पतंजलि कारोबर में इजाफा हुआ है. उन्होंने यह भी बताया कि पतंजलि आयुर्वेद का साल 2015-16 का टर्नओवर 5000 करोड़ रुपये है. जो कि इंटरनेशनल ब्रांड्स को टक्कर दे रही है. बाबा ने कहा कि हमने अपने बिजनेस के लिए किसी कंपनी को खरीदा नहीं और न ही किसी को खत्म किया जैसा कि विदेशी कंपनियां करती हैं.
 
एक प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान बाबा रामदेव ने बताया कि पतंजलि ने करीब 1 लाख लोगों को रोजगार दिया है. साथ ही यह भी कहा कि पतंजलि का लक्ष्य साल 2016-17 के लिए 10000 करोड़ तक टर्नओवर करना है.
 
4 साल में 1100 फीसदी ग्रोथ
 
पतंजलि प्रोडक्ट के बारे में जानकारी देते हुए रामदेव ने कहा कि 1 मार्च 2012 में ओपन मार्केट में आई कंपनी ने 4 साल में 1100 फीसदी की ग्रोथ हासिल की है. उन्होंने बताया कि 2011-12 में कंपनी का टर्नओवर 446 करोड़ रुपये था. पतंजलि के पास मौजूदा समय में 40000 डिस्ट्रीब्यूटर, 10000 स्टोर और 100 मेगा स्टोर व रीटेल स्टोर हैं. उन्होंने कहा कि पतंजलि 100 करोड़ रुपये रिसर्च में खर्च करती है. 500 करोड़ रुपये गायों की सेवा और वैदिक व आधुनिक शिक्षा के लिए खर्च किया जाता है. ताकि लोगों को शुद्ध गाय का घी दे सके. और इसी का नतीजा है कि गाय के घी का नया बाजार खड़ा किया है जिसका टर्न ओवर 1308 करोड़ का हुआ. 
 
कोलगेट का गेट जल्द होगा बंद: रामदेव
 
बाबा रामदेव ने बताया कि पतंजलि जल्द ही तीन बड़ी कंपनियों को शीर्षासन करा देगी. उन्होंने कहा कि पतंजलि का दंतकांति कोलगेट को, केशकांति पैंटीन का और पतंजलि का फूड प्रोडेक्ट्स नैस्ले को बाजार से बाहर कर देगी. इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि जल्द ही कोलगेट का गेट भी बंद होने वाला है. उन्होंने बताया कि विदेशी टूथपेसेट में कैमिकल मिला होता है. 
 
किसानों से सीधे खरीदते हैं उत्पाद
 
रामदेव ने कहा है कि पतंजलि ने सेवा और सिद्धांत का खयाल रखा है. हमारे उत्पादों से किसानों की समृद्धि बढ़ी है क्योंकि हम किसानों से सीधे उत्पाद खरीदते हैं. रामदेव ने कहा कि हमने अपने प्रोडेक्ट्स को बेचने के लिए ग्लैमर और झूठे सपनों का सहारा नहीं लिया है. और ना ही पैसा देकर ब्रांड एंबेसेडर खरीदते हैं. हम इस देश में एक सात्विक विचार, और व्यापार का नया आधार गढ़ रहे हैं.