नई दिल्ली. भूमाता रणरागिनी ब्रिगेड प्रमुख तृप्ति देसाई को हाजी अली ट्रस्टी ने धमकी देते हुए कहा कि दरगाह में घुसने की कोशिश की तो अच्छा नहीं होगा. वहीं तृप्ति का कहना है कि दरगाह के ट्रस्ट को अपना फैसला बदलने के लिए पत्र लिखा जा रहा है लेकिन अगर ट्रस्ट ऐसा नहीं करता तो 28 अप्रैल को दरगाह के सामने आंदोलन किया जाएगा.
 
बता दें कि तृप्ति देसाई ने 28 अप्रैल को हाजी अली जाने का ऐलान किया है. यह ऐलान उन्होंने शिवसेना की धमकियों के बीच किया है. दूसरी तरफ शिवसेना नेता हाजी अराफात ने शनिवार को कहा कि उन्हें मजार-ए-शरीफ को छूने की अनुमति नहीं दी जा सकती. शिवसेना नेता ने कहा है कि अगर तृप्ति देसाई ने हाजी अली दरगाह में घुसने की कोशिश की तो उन्हें चप्पलों का प्रसाद दिया जाएगा.
 
शनि शिंगणापुर और त्रयंबकेश्वर मंदिर के बाद तृप्ति देसाई ने हाल ही में हाजी अली दरगाह में चादर चढ़ाने की घोषणा की थी. भूमाता ब्रिगेड की तृप्ती देसाई ने शनी शिंगनापूर और त्र्यंबकेश्वर के बाद अपना मोर्चा हाजी अली दरगाह की तरफ बढ़ाने की घोषणा की है. 28 अप्रैल को कई सेक्युलर संगठनों के साथ तृप्ती देसाई हाजी अली के बाहर आंदोलन का ऐलान भी कर चुकी हैं.
 
हाजी अली ट्रस्ट का कहना था कि पुरुष की मजार में महिलाओं का प्रवेश इस्लाम में वर्जित है. किसी भी पुरुष संत की मजार को महिलाएं हाथ नहीं लगा सकती हैं. देश की दूसरी कई बड़ी मजारों में महिलाओं का प्रवेश वर्जित है और अगर महिलाओं को मजार के करीब जाने की इजाजत है तो वो बिना प्रवेश किए इबादत कर सकती हैं.