नई दिल्ली. राष्ट्रसंत कहे जाने वाले भय्यूजी महाराज ने सार्वजनिक जीवन से संन्यास लेने की घोषणा कर दी है. गरीबों की हालत को देख दुखी भैय्यूजी ने इस घोषणा के साथ कहा कि लोगों के पास बहुत पैसा है लेकिन समाजसेवा करने के लिए उनके पास पैसा नहीं है.
 
भय्यू महाराज ने कहा मेरी सोच थी कि मैं लोगों की मानसिकता बदल सकूंगा लेकिन ऐसा नहीं कर सका और मेरे काम करने की सीमा पूरी हो चुकी है. कोई संत के लिए दसवंद निकालता है तो कोई चौकी के लिए लाखों रुपए देता है, लेकिन गरीब के आंसू पोछने के लिए किसी के पास कुछ नहीं है. समाज के लिए काम करने वाले अण्णा हजार जैसे लोग उपेक्षित होते हैं.
 
बता दें कि सामाजिक सेवा करने वाले भैय्यूजी का आश्रम इंदौर में है. जमीदार के घर में पैदा होने वाले भैय्यूजी का असली नाम उदय सिंह देशमुख है.
 
इंडिया न्यूज के एडिटर-इन-चीफ दीपक चौरसिया के साथ खास बातचीत में भैय्यूजी महाराज ने अपने संन्यास लेने की वजहों का जिक्र तो किया. साथ ही उन्होंने समाज में चल रहे हालात पर भी अपना पक्ष रखा.
 
वीडियो पर क्लिक करके देखिए खास बातचीत