नई दिल्ली. फ्रांस के साथ राफेल लड़ाकू विमान सौदे के बारे में सरकार ने अभी तक चुप्पी साध रखी है, लेकिन भारतीय जनता पार्टी ने अपने आधिकारिक ट्विटर पेज पर खुलासा किया कि यह सौदा 8.8 अरब डॉलर में तय हुआ है.
 
बीजेपी ने ट्वीट में लिखा है कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने 36 विमानों के इस सौदे को 12 अरब डॉलर (80,000 करोड़ रुपये) की जगह 8.8 अरब डॉलर (59,000 करोड़ रुपये) में कर 3.2 अरब डॉलर (21,000) करोड़ रुपये की बचत की है. इस पोस्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर भी लगी हुई है.

 
रक्षा मंत्रालय ने इन आंकड़ों पर कोई प्रतिक्रिया देने से मना किया है. रक्षा राज्यमंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने कहा था कि राफेल सौदे पर चल रही बातचीत पूरी हो गई है और जल्द ही इसे डिफेंस एक्वीजिशन कौंसिल (डीएसी) के पास भेजा जाएगा.
 
रक्षा मंत्रालय ने लड़ाकू विमानों के इस सौदे के संबंध में अभी तक कोई आधिकारिक आंकड़ा प्रस्तुत नहीं किया है, लेकिन यह दुनिया के सबसे महंगे लड़ाकू विमानों में से एक है. इस साल जनवरी में फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद की भारत यात्रा के दौरान दोनों पक्षों ने इस सौदे के संबंध में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए थे.