नई दिल्ली. समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट मामले में लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित को क्लीनचिट मिल सकती है. पुरोहित के खिलाफ जांच कर रही टीम ने कहा है कि उनके खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं है. उनके खिलाफ कोई भी पुख्ता सबूत नहीं है. जिस वजह से उन्हें क्लीनचिट दी जा सकती है.
 
एनआईए के महानिदेशक शरद कुमार ने कहा है कि पुरोहित के खिलाफ कोई पुख्ता सबूत नहीं है. उन्होंने कहा, ‘समझौता विस्फोट मामले में उसके खिलाफ कोई सबूत नहीं है. वह कभी भी आरोपी नहीं था. मुझे हैरानी है कि समझौता विस्फोट मामले में उसका नाम क्यों जोड़ा जा रहा है’. 
 
बता दें कि पुरोहित का नाम 18 फरवरी 2007 को समझौता एक्सप्रेस में हुए बम ब्लास्ट के आरोपियों में शामिल है. इस हादसे में 68 लोग मारे गए थे.