गांधीनगर. गुजरात में पटेल आरक्षण की मांग और पाटीदार नेता हार्दिक पटेल की रिहाई को लेकर आंदोलनकारियों ने आज गुजरात बंद का आह्वान किया है. इसे देखते हुए मेहसाणा, सूरत, अहमदाबाद, राजकोट, वडोदरा और साबरकांठा में मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है.
 
राज्य सरकार ने मेहसाना में पटेल समुदाय की एक विशाल रैली के बाद गुजरात के कई हिस्सों में भड़की हिंसा और कुछ पटेल संगठनों द्वारा सोमवार को गुजरात बंद आह्वान को देखते हुये अहमदाबाद, मेहसाना और सूरत में रैपिड एक्शन फोर्स को तैनात किया और अन्य स्थानों पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है.
 
गुजरात के मुख्य सुचिव जी आर अलेरिया ने बताया कि रैपिड एक्शन फोर्स की पांच कंपनियों इन तीन शहरों में तैनात की गयी है. इसके अलावा, स्टेट रिजर्व पुलिस की 20 कंपनियों को भी पूरे राज्य में तैनात किया गया है. सरदार पटेल ग्रुप के साथ-साथ हार्दिक पटेल की अगुवाई वाली पाटीदार अमानत आंदोलन समिति ने गुजरात बंद का आह्वान किया है.
 
रविवार देर शाम वरिष्ट अधिकारियों के साथ एक समिक्षा बैठक के बाद अलेरिया ने बताया, नियमित पुलिस बल के अलावा, हमने अहमदाबाद और मेहसाना में आरएएफ की दो-दो कंपनियां और एक कंपनी सूरत में तैनात किया है. अगर जरूरत हुयी तो स्थिति से निपटने के लिए हम केंद्र से आरएफ से 10 और कंपनियां आवंटित करने को कहेंगे.
 
गृहमंत्री ने सीएम आनंदी बेन से बात की
केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सीएम से फोन पर बातचीत कर हालात की जानकारी ली. गृहमंत्री ने शांति बनाए रखने के लिए जरूरी मदद का भरोसा भी दिलाया.
 
आनंदी बेन सीएम आनंदीबेन पटेल ने ट्वीट करके लोगों से अपील की. उन्होंने कहा कि हिंसा किसी मामले का समाधान नहीं है.