महाराष्ट्र. कोल्हापुर के महालक्ष्मी मंदिर में प्रवेश करने गई भूमाता ब्रिगेड की नेता तृप्ति देसाई के साथ मारपीट की गई. जिसके बाद तृप्ति घायल हो गईं. फिलहाल उन्हें कोल्हापुर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार तृप्ति देसाई के ऊपर हल्दी, कुमकुम के साथ मिर्च पाउडर भी फेंका गया. इस घटना में पुलिस ने बड़ी मुश्किल से तृप्ति को बाहर निकाला.
 
दरअसल, तृप्ति का आरोप है कि उन्हें मंदिर में घुसने नहीं दिया गया. वहीं जब उन्होंने अंदर जाने के लिए जोर लगाने की कोशिश की तो वहां मौजूद लोगों ने उनके साथ मारपीट की.
 
तृप्ति का आरोप
तृप्ति ने आरोप लगाते हुए कहा कि कुछ लोगों ने उनके बाल खींचे, उनके कपड़े फाड़ दिए गए. इस दौरान उन्हें गालियां दी गई और अपशब्द कहे गए. उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि हमलावरों ने मुझे मारने की योजना बनाई थी. तृप्ति के मुताबिक पुजारी लोग उन्हें गालियां दे रहे थे.
 
क्या है पूरा मामला
तृप्ति देसाई बुधवार शाम को 50 महिलाओं के साथ कोल्हापुर में महालक्ष्मी मंदिर दर्शन करने पहुंची थीं, लेकिन यहां की पुलिस ने कानून व्यवस्था के मद्देनजर इन्हें रोक लिया गया. शाम को तृप्ति देसाई को पुलिस की निगरानी में मंदिर के गर्भगृह में दर्शन के लिए लाया गया. तभी मंदिर जाते समय हिंदुत्ववादी कार्यकर्ता और स्थानीय लोगों ने तृप्ति के साथ अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर उन पर हमला करने की कोशिश भी की. पुलिस तृप्ति को मंदिर गर्भगृह के पास लाई लेकिन वहां पर पुजारी और अन्य महिलाओं ने उसे गर्भगृह में जाने की इजाजत नहीं दी. जिसके बाद स्थानीय लोगों ने मिलकर तृप्ति पर हमला कर दिया.
 
पुजारियों का पुलिस पर आरोप
दूसरी ओर पुजारियों का यह आरोप है की पुलिस ने बिना कोर्ट के आदेश के जबरन तृप्ति देसाई को मंदिर के गर्भगृह मे प्रवेश कराया है. जिसके बाद वहां मौजूद लोगों के साथ धक्का मुक्की की गई. वहीं इस मामले के लिए वह सभी प्रशासन और पुलिस की निंदा कर रहें है.
 
रिकवरी कर रही हैं तृप्ति : डॉक्टर
कोल्हापुर तृप्ति का इलाज कर रहे डॉक्टर अर्जुन अदनिक का कहना है कि जब उन्हें यहां लाया गया था तब उनमें पानी की कमी थी. उनका ब्लड प्रेशर लो था और सुगर लेवल भी नीचे चला गया था. लेकिन अब वो पहले से ठीक हैं और रिकवरी कर रही हैं.