चंडीगढ़. हरियाणा सरकार ने माना है कि जाट आंदोलन के दौरान मुरथल में महिलाओं के साथ हुआ.  मुरथल कांड के बाद पहली बार यह बात सरकार ने मानी है जिसपर सरकार ने हाईकोर्ट में कहा कि  ‘संभव है कि मुरथल में गैंगरेप हुआ हो’. इसी मामले में एसआईटी की प्रमुख महिला अधिकारी भी हाईकोर्ट के सामने पेश हुईं..  
 
जानकारी के अनुसार हाईकोर्ट ने मामले में सरकार से  4 मई तक रिपोर्ट मांगी है. वहीं, हाईकोर्ट ने एसआईटी के कामकाज में दखल ना दिए जाने के भी निर्देश दिए हैं.  
 
बात अगर एसआईटी रिपोर्ट की करें तो इसके मुताबिक मुरथल में रेप की शिकार तीन महिलाएं सामने आई थीं.  इस घटना में बीते 30 मार्च को एफआईआर (नंबर 118) दर्ज किया गया था. अब इस एफआईआर में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 376-डी के तहत रेप का मामला दर्ज किया है.
 
बता दें कि हरियाणा में हुए जाट आंदोलन के वक्त सोनीपत जिला के मुरथल क्षेत्र में गैंगरेप की घटना सामने आई थी जिसके बाद एक विशेष जांच दल का गठन हुआ था. इसके द्वारा हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया था. जिसमें लोग घटना से जुड़ी सूचना सीधे पुलिस को दे सकते हैं.