नई दिल्ली. दिल्ली के पॉश इलाके सिविल लाइन्स में नाबालिग के हाथों मर्सिडीज हिट एंड रन केस में नया मोड़ सामने आया है. नाबालिग ने दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में सरेंडर कर दिया है और इससे पहले उसके पिता मनोज अग्रवाल को गिरफ्तार कर लिया गया है. 
 
ऐसा पहले बार हुआ है जब बेटे की गलती पर पिता को अरेस्ट किया गया है. बता दे कि लड़के के पिता पर क्राइम के लिए उकसाने का केस दर्ज किया गया है. जानकारी के अनुसार 12 क्लास में पढ़ने वाला स्टूडेंट इससे पहले भी कई बार खतरानक एक्सीडेंट कर चुका है. जिस पर पहले भी लापरवाही से कार चला कर जान लेने के आरोप लगे हुए है.
 
आरोपी स्टूडेंट पर पहले लापरवाही के चलते जान लेने का आरोप था. बाद में पुलिस ने आरोपी के खिलाफ कल्पेबल होमीसाइड (गैरइरादतन हत्या) का मामला दर्ज किया गया है.
 
क्या हुआ था उस रात
दरअसल 4 अप्रैल अप्रैल की रात करीब 8.30 बजे नाबालिग 7 लोगों के साथ अपनी मर्सिडीज को 100 किलो/घंटा की रफ्तार से भगा रहा था. उसकी इस लापरवाही का खामियाजा 32 साल के सिद्धार्थ शर्मा बिजनेस कंस्लटेंट को जान गंवाकर चुकाना पड़ा.