नई दिल्ली. कर्ज में डूबे उद्योगपति विजय माल्या ने प्रवर्तन निदेशालय से पेशी के लिए अब मांगा मई तक का समय मांगा है. माल्या ने सुप्रीम कोर्ट के सामने बैंकों द्वारा उनके दिए पहले प्रस्ताव को खारिज करने का हवाला देते हुए कहा कि अब वे नए प्रस्ताव पर काम कर रहे हैं.

माल्या ने बताया कि बैंकों के लिए दूसरा नया प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है. इस प्रस्ताव के बनने और क्लीयरेंस में वक्त लगेगा, जिसके लिए माल्या ने मई के अंत में पेशी का समय मांगा है.

माल्या ने कहा कि एक बार बैंक उनके प्रस्ताव को मान जाए, तो वो वापस आ जाएंगे. गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने माल्या का अगली सुनवाई में मौजूद रहना जरूरी करार दिया था. कोर्ट ने पूछा था कि विजय माल्या 21 अप्रैल तक हर हाल में बताएं कि वह कब पेश होंगे. कोर्ट ने ये भी कहा था कि माल्या एक बड़ी रकम जमा कराएं, जिसके बाद ही बैंकों से आगे बात का रास्ता साफ होगा.

26 अप्रैल को है मामले की सुनवाई

इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने विजय माल्या के वकील से कहा था कि वह 10 दिनों में अपनी संपत्ति का ब्यौरा दें. 21 अप्रैल तक माल्या को सिर्फ अपना ही नहीं पत्नी और बच्चों की संपत्ति का ब्यौरा भी देना होगा. मामले की अगली सुनवाई 26 अप्रैल को होगी.

बैंको ने ठुकराया था माल्या का ऑफर

किंगफिशर एयरलाइंस को कर्ज देने वाले बैंकों ने कंपनी के मालिक विजय माल्या से लोन चुकाने के लिए बेहतर ऑफर की मांग की थी. इस पर किंगफिशर के वकील ने सुप्रीम कोर्ट से कर्ज चुकाने का नया प्रस्ताव बनाने के लिए दो हफ्तों का समय मांगा था.