अहमदाबाद: इशरत जहां मुठभेड़ मामले में प्रमुख आरोपी पूर्व DIG डीजी वंजारा करीब 9 साल बाद गुजरात पहुंच गए हैं. वहां उनका ढोल-नगाड़ों के साथ स्वागत हुआ. वंजारा ने अपनी रिहाई को गुजरात पुलिस की जीत बताया है. एयरपोर्ट पर बड़ी संख्या में लोगों ने उनका स्वागत किया. डी जी वंजारा ने कहा है कि मौजूदा केंद्र सरकार राष्ट्रवादी है और यह राष्ट्रहित के मुद्दों से पीछे नहीं हटेगी.
 
वंजारा को एयरपोर्ट पर रिसीव करने लेने के लिए बडी तादाद में वंजारा कम्युनिटी के लोग और उनके परिवार वाले मौजूद रहे. वंजारा का पूरा परिवार उसे लेने एयरपोर्ट पहुंचा. वंजारा के एयरपोर्ट पर आने के साथ ही भारत माता कि जय के नारे लगने लगे.
 
40 लाख की मर्सिडीज के साथ पहुंचा बेटा
सोहराबुद्दीन और इशरत जहां एनकाउंटर केस के आरोपी पुलिस अधिकारी डीजी वंजारा की 9 साल बाद घर वापसी हुई है. इसे लेकर परिवार में जश्न का माहौल है. इस मौके पर वंजारा का बेटा पृथ्वी 40 लाख की नई मर्सिडीज कार के साथ एयरपोर्ट पहुंचा. पृथ्वी ने कहा, सीबीआई कोर्ट ने मेरे पिता को गुजरात आने की मंजूरी दी है. इसकी खुशी मैं और मेरी मां व्यक्त नहीं कर सकते. सशर्त जमानत पर रिहा हुए मेरे पिता एक साल से मुम्बई में अकेले ही रह रहे थे. इस दौरान उन्हें कई तकलीफों से होकर गुजरना पड़ा. अब पिताजी को इससे मुक्ति मिल गई है.
 
राष्ट्रवादी है केंद्र सरकार: वंजारा
डीजी वंजारा ने कहा कि मुझे हमेशा से उम्मीद थी कि वह जेल से बाहर आ जाएंगे क्योंकि उन्होंने अथवा उनके साथी पुलिस अधिकारियों ने कुछ भी गलत नहीं किया था. उन्होंने जो कुछ भी किया था वह देश हित में तथा कानून और संविधान के दायरे में था. वंजारा ने कहा कि मौजूदा केंद्र सरकार राष्ट्रवादी है और यह राष्ट्रहित के मुद्दों से पीछे नहीं हटेगी. वह अब सेवानिवृत्त होने के बाद भी देश के लिए काफी कुछ करने की इच्छा रखते हैं. वंजारा ने अगले साल गुजरात में होने वाले विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार बनने के बारे में पूछे गए एक सवाल का कोई स्पष्ट उत्तर नहीं दिया, उन्होंने कहा कि वह एक पुलिस अधिकारी होने के बावजूद सार्वजनिक जीवन जीते रहें है और आगे भी ऐसा ही करेंगे. उन्होंने केवल इतना ही कहा कि अभी 2017 बाद की बात है.
 
2007 में हुए थे गिरफ्तार
सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में अप्रैल 2007 में वंजारा को गिरफ्तार किया गया था. इसके बाद इशरत जहां एनकाउंटर मामले में भी उन्हें गिरफ्तार किया गया. स्पेशल सीबीआई कोर्ट से इशरत जहां और सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में जमानत पर रिहा हुए वंजारा को गुजरात में प्रवेश के अनुमति मिल गई है. कोर्ट के इस आदेश से वंजारा के 9 साल के गुजरात वनवास का अंत हो गया है. वंजारा ने गुजरात में खुद की वापसी को गुजरात पुलिस की जीत बताया.