नई दिल्ली. रिजर्व बैंक मंगलवार को अपनी चालू वित्त वर्ष की पहली द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा पेश करने जा रहा है. बाजार में इस बात को लेकर काफी उम्मीद है कि औद्योगिक वृद्धि व अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन देने के लिए केंद्रीय बैंक नीतिगत दरों में 0.25 से 0.50 प्रतिशत की कटौती करेगा.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी सोमवार को दिन में नीतिगत ब्याज दरों के मोर्चे पर नरमी की वकालत करते हुए कहा कि ऊंची ब्याज दर से अर्थव्यवस्था सुस्त पड़ सकती है. बैंकर और विशेषज्ञ भी उम्मीद कर रहे हैं कि रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन ऋण की लागत को कम करेंगे.

बैंक आफ महाराष्ट्र के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक सुशील मुनहोत ने कहा कि इस बात की संभावना है कि रिजर्व बैंक नीतिगत दर में 0.25 प्रतिशत की कटौती करेगा.

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक के एक वरिष्ठ बैंक अधिकारी ने कहा कि बाजार मानकर चल रहा है कि ब्याज दरों में 0.25 प्रतिशत की कटौती होगी, लेकिन इस बात की भी काफी संभावना है कि केंद्रीय बैंक नीतिगत दर में 0.50 प्रतिशत तक की कटौती करे. उद्योग मंडल भी ब्याज दरों में 0.50 प्रतिशत की कटौती की मांग कर रहे हैं.