गाजियाबाद. उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने गाजियाबाद में कहा कि आजम खां संसदीय कार्य मंत्री के पद पर काम करने लायक नहीं हैं. उन्होंने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से आजम को संसदीय मंत्री पद से हटाने के लिए कहा.  राज्यपाल यहां के मेरठ रोड स्थित एचआरआईटी कॉलेज में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में शिरकत करने आए थे. वह इससे पहले भी आजम खां की योग्यता पर सवाल उठा चुके हैं.
 
राज्यपाल ने कहा, “जिस तरह से आजम खां ने विधानभवन में मेरे खिलाफ टिप्पणी की, उससे लगता है कि वह संसदीय कार्य मंत्री के पद पर कार्य करने लायक नहीं हैं.” 
 
राम नाईक ने कहा कि संसदीय कार्य मंत्री को सदन के अंदर अपनी गरिमा का ध्यान रखना चाहिए. उन्होंने कहा कि आजम के बयानों की जो सीडी विधानसभा अध्यक्ष ने उन्हें सौंपी है, उसमें छेड़छाड़ की गई है. राज्यपाल ने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय और मंत्री आजम खां अभी बाहर गए हुए हैं. उनके आने पर जल्द ही मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से वह इस मसले पर बात करेंगे. 
 
विधान परिषद के सदस्यों के बाबत राज्यपाल ने कहा कि सरकार द्वारा भेजी गई एमएलसी की सूची में दागियों के नाम भी शामिल थे. इसीलिए उस सूची को वापस कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री द्वारा अभी तक दूसरी सूची नहीं भेजी गई है. एबीवीपी सदस्यों को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने केंद्र सरकार की जमकर सराहना की. इस दौरान उन्होंने छात्रों को उनके बेहतर भविष्य के लिए टिप्स भी दिए. 
 
राज्यपाल ने कहा कि पहले के मुकाबले अब महिलाएं अधिक जागरूक हुई हैं. जेएनयू मुद्दे पर भी राज्यपाल ने बिना किसी का नाम लिए कहा कि छात्रों को पढ़ाई के साथ देशभक्ति का पाठ पढ़ने की भी जरूरत है. उन्होंने कहा, “हमें हर पल देश के लिए तैयार रहना होगा.”