नोएडा. नोएडा सेक्टर 32 में निर्माणाधीन नारी निकेतन की इमारत अपने अंतिम चरण पर है. जल्द ही यह बिल्डींग पूरी तरह बनकर तैयार हो जाएगी. साल 2014 के मार्च में इस पर कार्य शुरू हुआ था. और अप्रैल 2016 में इसको बेसहारा महिलाओं और बच्चों के लिए खोल दिया जाएगा. नोएडा अथॉरिटी ने बताया है कि 3540 वर्ग मीटर के क्षेत्र में बन रहा नारी निकेतन अप्रैल में शुरू कर दिया जाएगा.
 
अथॉरिटी के सीईओ श्री रमन ने कहा है कि महिलाओं को बहिष्कृत करने वाले परिवारों की संख्या आज भी कम नहीं है. उन्होंने निकेतन के निर्माण के उद्देश्य पर बात करते हुए कहा, ‘दुर्भाग्यवश आज भी कई ऐसे परिवार हैं जिनमें अलग-अलग कारणों से महिलाओं और बच्चों का बहिष्कार कर दिया जाता है. इन महिलाओं और बच्चों को शरण प्रदान करने में नारी निकेतन का योगदान अद्वितीय होगा. निकेतन न केवल इन्हें आश्रय और सुरक्षा देगा. बल्कि शिक्षा और व्यवसायिक प्रशिक्षण प्रदान करने का माध्यम भी बनेगा. इस इमारत का निर्माण जरूरतमंदों की हर सहुलियत को ध्यान में रखकर किया जा रहा है’.
 
तीन मंजिल की इस इमारत में 9 डोरमेटरी, हाउस किपींग स्टोर, शौचालय के साथ साथ टीवी रूम भी होगा. इसके अलावा पढ़ने के लिए पुस्तकालय, प्राथमिक चिकित्सा कक्ष, बच्चों के लिए कक्षाएं होंगी. सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सीसीटीवी कैमरे और फायर कंट्रोल रूम होंगे. रसोई, भोजन कक्ष, कर्मचारियों के लिए कमरे, इलेक्ट्रिक रूम, परामर्श कक्ष जैसी अन्य सुविधाएं भी दी जाएंगी. 
 
प्रोजेक्ट के अभियंता श्री एके शर्मा का कहना है कि निकेतन का निर्माण महिलाएओं और बच्चों की हर आवश्यकता को ध्यान में रखकर किया गया है. लगभग 6 करोड़ की लागत से बनाए जा रहे इस निकेतन में महिला सुधार ग्रह और बाल सुधार ग्रह का भी निर्माण किया गया है. भवन में कुल 100 लोगों के रहने की व्यवस्था की गई है.
 
स्थानीय लोगों ने इस पहल की तारीफ की है. बता दें कि नोएडा सेक्टर 62 में भी बच्चों और बुजुर्गों के रहने के लिए आश्रम बनाया जा रहा है.