नई दिल्ली. पठानकोट एयरबेस हमले के मामले में जांच के लिए पाकिस्तान की ‘ज्वाइंट इन्वेस्टिगेशन टीम’ दिल्ली पहुंच गई है. इन्वेस्टिगेशन टीम आज से जांच शुरू करेगी.

ऐसे संकेत मिले हैं कि यह टीम गवाहों से तो पूछताछ करेगी लेकिन सुरक्षा बलों के लोगों से वह कोई जानकारी नहीं ले सकेगी. बातचीत के कायदे और दायरा आपसी सहमति से तय किया जाएगा.

संभावना है कि भारत भी अपने जांच दल को पाकिस्तान भेजेगा और वह उससे भी ऐसे ही सहयोग की उम्मीद करेगा.

एनआईए मुख्यालय जाएगा दल

सोमवार को सुबह 11 बजे यह टीम एनआईए हेडक्वार्टर जाएगी। वहां पर एनआईए टीम के सामने तथ्य और सबूतों को रखेगी. इसके बाद पाक जेआईटी उनसे सवाल-जवाब कर सकती है. लंच के बाद तीन घंटे की विस्तृत बातचीत होगी.

मंगलवार को पठानकोट का दौरा

मंगलवार को यह टीम पठानकोट जाएगी. एयरफोर्स बेस के बाहर लैंड करने के बाद टीम को सड़क मार्ग से एयरबेस के अंदर कुछ चुनिंदा जगहों पर ले जाया जाएगा. एयरबेस के कुछ विशेष सुरक्षा वाले इलाकों को बैरीकेट्स से घेर दिया गया है ताकि उन इलाकों को देखा न जा सके.

बुधवार को यह टीम दोबारा एनआईए हेडक्वार्टर जाएगी और वहां पर एनआईए से सवाल पूछेगी. साक्ष्य के लिए जो पत्र पाकिस्तान भेजा था उसका अब तक कोई जबाब नहीं आया है इसलिए यह मीटिंग काफी महत्वपूर्ण है. टीम गवाहों से पूछताछ कर सकती है. एनआईए उन्हें जांच संबधी कागजात भी दिखाएगी.

पठानकोट बेस एनआईए को सौंप दिया गया है और अगर वह चाहे तो उन्हें बामियाल बार्डर और जहां से आतंकी पठानकोट बेस में घुसे थे वहां भी ले जाया सकता है. अभी तक इनकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल से कोई मीटिंग तय नहीं की गई है.