अगरतला. केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि वैचारिक असमानता के बावजूद जम्मू-कश्मीर में बीजेपी-पीडीपी की गठबंधन सरकार केवल राज्य के विकास के लिए काम करेगी. सिंह ने कहा, “बीजेपी व पीडीपी के बीच वैचारिक असमानता है. इन असमानताओं के बावजूद बीजेपी-पीडीपी गठबंधन सरकार जम्मू-कश्मीर के विकास के लिए काम करेगी.”
 
जम्मू-कश्मीर के उधमपुर-डोडा संसदीय सीट से बीजेपी सांसद व प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री सिंह ने कहा, “बीजेपी व पीडीपी का राज्य नेतृत्व राज्य में सरकार के गठन के मुख्य पहलुओं पर फैसला करेगा.” 
 
बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव व सिंह ने श्रीनगर में पार्टी के विधायकों से मुलाकात की थी और सरकार के गठन को लेकर चर्चा की. मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद के नेतृत्व वाली बीजेपी-पीडीपी की गठबंधन सरकार ने राज्य के आम जनों व विकास के लिए काम किया. 
 
बता दें कि जम्मू एवं कश्मीर में आठ जनवरी से ही राज्यपाल शासन है. एम्स में मुफ्ती मोहम्मद सईद के निधन के एक दिन बाद से ही राज्य में राज्यपाल शासन है. पीडीपी के पास 27 विधायक हैं (मुफ्ती मोहम्मद सईद को मिलाकर कुल 28 थे) और पार्टी को एक निर्दलीय विधायक भी समर्थन दे रहे हैं, जो लद्दाख क्षेत्र से विधायक हैं.
 
उधर, बीजेपी के पास 25 विधायक हैं और तीन अन्य विधायक उसे समर्थन दे रहे हैं. इनमें से दो पीपुल्स कान्फ्रेंस के और एक निर्दलीय हैं. जम्मू एवं कश्मीर विधानसभा में कुल 87 सीटें हैं.