नई दिल्ली. दिल्ली के विकासपुरी में डॉक्टर पंकज नारंग की हत्या को लेकर जबर्दस्त अफवाह फैलाई जा रही है. नारंग की मौत के बाद सोशल मीडिया पर लगातार ये बातें फैलाई जा रही हैं कि जिन लोगों ने उनकी हत्या की वो बांग्लादेश के एक खास समुदाय से ताल्लुक रखते थे. फेसबुक और ट्विटर पर ऐसे मैसेज वायरल हैं. इस मामले में दिल्ली पुलिस ने आज साफ किया कि इस केस का कोई सांप्रदायिक एंगल नहीं है.
 
दिल्ली पुलिस की एडिशनल डीसीपी मोनिका भारद्वाज ने ट्वीट कर कहा है कि आरोपियों में से कोई भी बांग्लादेशी नहीं है. उन्होंने कहा, ‘पकड़े गए 9 आरोपियों में से 5 हिंदू हैं. पहली बार जिन 2 आरोपियों के साथ झगड़ा हुआ था. उनमें से एक हिंदू है. 4 मुस्लिम आरोपी यूपी के हैं. बांग्लादेश के नहीं. अफवाहों पर ध्यान न दें’.
 
इस मामले पर आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता आशुतोष ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा है कि यह सब बीजेपी की शैतानी सोच दर्शाता है. उन्होंने कहा, ‘हर घटना को सांप्रदायिक रंग देना बीजेपी की शैतानी सोच दर्शाता है’.
 
बता दें कि होली से एक दिन पहले दिल्ली के विकासपुरी के एक डॉक्टर को कुछ लोगों ने मामूली सी बात पर पीट पीट कर मार डाला.