श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर में करीब ढाई महीने के बाद सरकार गठन को लेकर सभी अड़चनें शुक्रवार को दूर हो गईं. पीडीपी-बीजेपी गठबंधन की सरकार बनने का रास्‍ता पूरी तरह  साफ हो गया. पीडीपी विधायक दल की नेता महबूबा मुफ्ती राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने की पेशकश करेंगी. उसके बाद ही ताजपोशी की तारीख तय होगी. महबूबा को मुख्‍यमंत्री पद का उम्‍मीदवार चुनने से पहले उन्हें विधायत दल का नेता चुना गया था.
 
डिप्टी CM होंगे निर्मल सिंह
इधर जम्मू में बीजेपी विधायक दल की आज बैठक हुई. इस बैठक में यह फैसला हुआ कि पीडीपी के साथ मिलकर बीजेपी सरकार बनाने के लिए तैयार हैं. बैठक के बाद बीजेपी के एक नेता ने कहा कि पीडीपी के साथ मिलकर सरकार बनाने पर चर्चा हुई. पार्टी एक-दो दिन में राज्यपाल को समर्थन का पत्र देगी. इस गठबंधन सरकार में  निर्मल सिंह डिप्टी सीएम होंगे.
 
 
एजेंडे के आधार पर बनेगी सरकार
बीजेपी ने यह भी कहा कि राज्‍यपाल से दोनों पार्टियों के नेता मिलेंगे. जम्मू कश्मीर बीजेपी अध्यक्ष सत शर्मा ने कहा कि बीजेपी और पीडीपी गठबंधन के एजेंडे के आधार पर सरकार बनाएंगे. गठबंधन के एजेंडे में कोई बदलाव नहीं होगा. निर्मल सिंह सर्वसम्मति से जम्मू कश्मीर में बीजेपी विधायक दल के नेता चुने गए. 
 
माधव व जितेन्द्र सिंह ने किया राजनीतिक आकलन
बीजेपी हाईकमान ने राम माधव और जितेन्द्र सिंह को जम्मू कश्मीर की वर्तमान राजनीतिक स्थिति का आकलन करने और सरकार के गठन के बारे में पार्टी के विधायकों की राय जानने का दायित्व सौंपा. जिसके बाद आज बीजेपी विधायक दल की बैठक हुई. जिसमें राज्य बीजेपी के सभी विधायक और शीर्ष नेतृत्व ने हिस्सा लिया.
 
राज्यपाल ने दोनों पार्टियों को लिखा पत्र
राज्यपाल एनएन वोहरा ने पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती और प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष सत शर्मा को पत्र लिखा है और उनसे शुक्रवार को मिलने को कहा है ताकि सरकार के गठन के बारे में स्थिति स्पष्ट कर सके. बीजेपी का शिष्टमंडल आज राज्यपाल से मुलाकात करेगा और उन्हें राज्य की वर्तमान राजनीतिक स्थिति के बारे में पार्टी के रूख से अवगत कराएगा. 
 
PDP की ओर से नई शर्त स्वीकार नहीं
बता दें कि जम्मू कश्मीर में आठ जनवरी से राज्यपाल शासन लागू है. सात जनवरी को मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद का निधन हो गया था. बीते 22 मार्च को महबूबा ने नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की थी. दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ हुई उनकी बैठक की पृष्ठभूमि में विधायक दल की यह बैठक हुई. बीजेपी ने यह भी कहा कि उसने पीडीपी की ओर से किसी नयी शर्त को स्वीकार नहीं किया है.
 
29 मार्च को शपथ ग्रहण संभव
महबूबा ने खुद को नेता चुनने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं को शुक्रिया कहा है. उन्होंने कहा, ‘मेरे नेतृत्व में आप लोगों ने जो आस्था जताई है, मैं उसे कभी भंग नहीं होने दूंगी. मैं अपने पिता के मिशन को पीडीपी के एजेंडे को आगे ले जाते हुए हमेशा अवाम के लिए काम करूंगी.’ सब ठीक रहा तो महबूबा जम्मू-कश्मीर की 13वीं और पहली महिला मुख्यमंत्री के रूप में 29 मार्च को शपथ ले सकती हैं.