नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा का बजट सत्र आज से शुरू हो गया है. केजरीवाल सरकार ने 28 मार्च को पेश होने वाले बजट को अंतिम रूप दे दिया है. सुत्रों के मुताबिर बजट में इस बार भी शिक्षा-स्वास्थ्य और परिवहन के सुधार पर जोर दिया जाएगा.

सूत्रों की मानें तो पिछले साल शिक्षा के लिए जो राशि आवंटित की गई थी, उसमें कोई बढ़ोत्तरी नहीं की जाएगी. इसके बावजूद इस बार भी शिक्षा बजट सर्वाधिक रहेगा. पिछली बार सरकार ने शिक्षा बजट 2219 करोड़ से बढ़ाकर 9836 करोड़ रुपये कर दिया था.

शिक्षा के बाद सरकार की प्राथमिकता परिवहन और स्वास्थ्य सेवाओं को दुरुस्त करना है. पिछले साल स्वास्थ्य बजट में 45 प्रतिशत इजाफा करते हुए वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने 3138 करोड़ रुपये आवंटित किए थे.

गृह विभाग ने सुरक्षा खासकर महिला सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बजट प्रस्ताव भी वित्त विभाग को सौंप दिया है. सूत्रों के अनुसार इसके लिए राजधानी की सड़को पर स्ट्रीट लाइट लगाने और सीसीटीवी के लिए 750 करोड़ रुपये का बजट प्रस्ताव भेजा है. इसमें 600 करोड़ रुपये सीसीटीवी और 150 करोड़ रुपये स्ट्रीट लाइटें लगाने के लिए मांगा गया है.