श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर में सरकार गठन पर गतिरोध के बीच बीजेपी की सहयोगी पार्टी पीडीपी की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती अगले दो-तीन दिनों में अपनी पार्टी की बैठक बुलाएंगी. बैठक में पार्टी की भावी रणनीति तैयार की जाएगी. पीडीपी के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि बैठक में पीपुल्स डेमोकेट्रिक पार्टी की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती नई दिल्ली में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के साथ हुई बातचीत के बारे में अपने दल के बड़े नेताओं से चर्चा करेंगी. मौसम खराब होने के चलते जम्मू में फंसे पीडीपी के कुछ वरिष्ठ नेताओं के श्रीनगर पहुंचने पर बैठक की तिथि निश्चित कर दी जाएगी.
 
‘PDP की कोई शर्त स्वीकार नहीं करेगी BJP’
राज्य में सरकार के गठन पर वार्ता उस समय जोर पकड़ी जब बीजेपी के महासचिव राम माधव ने नई दिल्ली में कहा कि इस मुद्दे पर बीजेपी पीडीपी की कोई शर्त स्वीकार नहीं करेगी. हालांकि गठबंधन में शामिल दोनों पार्टियों में किसी ने यह नहीं कहा है कि गठबंधन खत्म हो गया है. पीडीपी के जो बड़े नेता दोनों पार्टियों के बीच संपर्क सूत्र बने हुए थे वे भी फिलहाल हाथ पैर समेट कर बैठ गए हैं.
 
‘BJP ने नहीं रखी कोई शर्त’
उधर पीडीपी इस बात पर कायम है कि उसने सरकार बनाने के लिए कोई नई शर्त नहीं रखी है. पीडीपी का कहना है कि उसने सिर्फ पिछली सरकार के गठन के वक्त मुफ्ती साहब के समक्ष बने शासन के एजेंडे को लागू करने के लिए समय सीमा निश्चित करने की मांग की थी. गत एक मार्च को मुफ्ती मोहम्मद सईद के नेतृत्व में गठबंधन सरकार बनी थी.
 
‘BJP के साथ गठबंधन का सम्मान’
पीडीपी नेता ने कहा, “महबूबा ने बार-बार यह दोहराया है कि वह पिता के समय बीजेपी के साथ गठबंधन सरकार बनाने के फैसले का सम्मान करती हैं. वह इसके लिए आश्वस्त हैं कि यह निर्णय राज्य के लोगों के हित में है.” पीडीपी नेता का कहना है, “महबूबा सिर्फ यह सुनिश्चित करना चाहती हैं कि राज्य के आर्थिक विकास और राजनीतिक पहल के संदर्भ में जो वादे उनके पिता से किए गए थे वह मूर्त रूप ले.” 
 
8 जनवरी से राज्यपाल शासन लागू
पीडीपी नेता ने कहा कि राज्य में राजनीतिक गतिरोध पर पार्टी की बैठक के बाद महबूबा मुफ्ती मीडिया से मुखातिब होंगी. तत्कालीन मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद के निधन के बाद 8 जनवरी से राज्य में राज्यपाल शासन लागू है.