नई दिल्ली. कांग्रेस ने आरोप लगाया कि बीजेपी उत्तराखंड और अरुणाचल प्रदेश जैसे राज्यों में सरकारों को गिराने के लिए खरीद-फरोख्त में लिप्त है. कांग्रेस ने जोर देकर कहा है कि पार्टी ‘लोकतंत्र के साथ इस तरह की जोर जबरदस्ती’ के खिलाफ लड़ेगी. पार्टी ने एक के बाद एक सिलसिलेवार ढंग से किए गए ट्वीट में कहा है, चुनी गई सरकारों को सत्ता से हटाना बीजेपी के शासन का नया मॉडल है. कांग्रेस पार्टी लोकतंत्र के साथ जोर जबरदस्ती के उनके ऐसे रवैये के खिलाफ लड़ेगी.
 

एक ट्वीट में कहा गया है, “पहले अरुणाचल प्रदेश और अब उत्तराखंड, हमारे लोकतंत्र और संविधान पर इस तरह के हमले मोदी सरकार के असली चेहरे को दिखाते हैं.” 
 

पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडलर आईएनसी इंडिया के एक अन्य ट्वीट में कहा गया है, “बिहार में मिली असफलता के बाद चुनी हुई सरकारों को खरीद-फरोख्त और पैसा तथा ताकत का खुला दुरुपयोग करके गिराना, लगता है कि बीजेपी का नया मॉडल है.”
 

कांग्रेस ने यह भी कहा है कि पीपीएफ और लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर कम करने से मुख्य रूप से मध्यम वर्ग प्रभावित होगा. विपक्षी दल ने यह भी कहा है कि मोदी सरकार के ब्याज दर कम करने से मध्य वर्ग को ही चपत लगी है.

 
जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) प्रकरण पर कांग्रेस ने सरकार पर दोहरा मानदंड अपनाने का आरोप लगाया है. पार्टी ने कहा कि जिन लोगों ने जेएनयू वीडियो के साथ छेड़छाड़ की, उनके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की गई?

 
एक दिन पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बीजेपी पर उत्तराखंड में ‘बेशर्मी के साथ खरीद फरोख्त’ में लिप्त रहने का आरोप लगाया था.