नई दिल्ली. बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिन की बैठक शनिवार को दिल्ली में शुरू हो गई है. बैठक का मुख्य एजेंडा मोदी सरकार के कामों को लोगों तक पहुंचाना है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने बैठक का शुभारंभ किया. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राष्ट्रीय कार्यकारिणी को रविवार को संबोधित करेंगे.
 
इस बैठक में पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों के संबंध में पार्टी की रणनीति पर चर्चा की जाएगी तथा मोदी सरकार द्वारा गरीबों एवं किसानों हित में शुरू की गई योजनाओं के प्रचार पर विशेष ध्यान केंद्रित किया जाएगा. सूत्रों ने बताया कि देश की मौजूदा राजनीतिक स्थिति खासकर जेएनयू प्रकरण के बाद राष्ट्रवाद और राष्ट्रद्रोह को लेकर चल रही बहस पर भी बैठक में चर्चा होगी.
 
बीजेपी के राष्ट्रीय सचिव श्रीकांत शर्मा का कहना है कि बैठक की शुरुआत शनिवार को सुबह राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक के साथ होगी. सम्मेलन स्थल के प्रवेश द्वार पर ही मोदी सरकार की योजनाओं का विकास वृक्ष बना दिया गया है. दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष सतीश उपाध्याय के मुताबिक इस वृक्ष के माध्यम से मोदी सरकार की विभिन्न योजनाओं को दर्शाया गया है. अमित शाह के तीन साल के लिए पार्टी अध्यक्ष चुने जाने के बाद कार्यकारिणी की यह पहली बैठक हो रही है. हालांकि शाह ने अपनी टीम में फिलहाल कोई बदलाव नहीं किया है.
 
मालूम हो कि यह बैठक ऐसे समय हो रही है जब पश्चिम बंगाल, असम, केरल, तमिलनाडु और पुड्डुचेरी में विधानसभा चुनाव होने हैं. इनमें से असम में पार्टी की संभावनाएं सबसे ज्यादा मजबूत हैं. बिहार विधानसभा चुनावों से सबक लेते हुए पार्टी ने असम विधानसभा चुनाव के लिए केंद्रीय मंत्री सर्बानंद सोनोवाल को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार भी घोषित किया है. 
 
माना जा रहा है कि बीजेपी के मार्गदर्शक मंडल के सदस्य लालकृष्ण आडवाणी इस बार भी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक से दूर रहेंगे.