नई दिल्ली. साप्ताहिक अखबार मिली गेजेट के पत्रकार पुष्प शर्मा से फर्जी आरटीआई छापने के आरोप में दिल्ली पुलिस पूछताछ कर रही है. जानकारी के अनुसार पुष्प को उनके घर से  मंगलवार को 6.30 बजे दिल्ली पुलिस ने पूछताछ थाने ले गई.
 
बता दें कि पत्रकार को उस आरटीआई मामले में पूछताछ के लिए बुलाया गया है जिसमें उन्होंने बताया था कि आयुष मंत्रालय की ओर से एक भी मुस्लिम योगा प्रशिक्षक की भर्ती नहीं की गई. साउथ दिल्ली के डिप्टी कमिश्नर प्रेम नाथ का कहना है कि हमने शर्मा को मामले में बुलाया है और उनसे पूछताछ की जा रही है.
 
 
 
क्या है मामला?
बता दें कि 15 अक्टूबर को आयुष मंत्रालय द्वारा आयोजित ‘विश्व योग दिवस’ के लिए योग प्रशिक्षकों की भर्ती की जानी थी. इस संदर्भ में पत्रकार पुष्प शर्मा ने आरटीआई डाली थी जिसमें पत्रकार ने दावा किया कि आरटीआई का जवाब चौंकाने वाला था.
 
पत्रकार द्वारा डाले गये आरटीआई  में सवाल किया गया था कि इस पद के लिए कितने मुसलमानों ने आवेदन किया था और इनमें से कितने लोगों को चुना गया? जिसमें जवाब में मंत्रालय ने कहा कि सरकार की नीति के मुताबिक किसी भी मुसलिम आवेदक को इस पद के नहीं चुना गया और न ही बुलाया गया. 
 
मंत्रालय ने किया खंडन
आयुष मंत्रालय ने जवाब देते हुए पुष्प की आरटीआई को फर्जी बताया है और कहा है कि उनके खिलाफ मंत्रालय की ओर से शिकायत भी दर्ज करवा दी गई है. मंत्रालय ने निंदा करते हुए कहा कि इस तरह की कोशिश समाज के विभिन्न वर्गों में अविश्वास की खाई बनाने के उद्देश्य का काम करती है.