नई दिल्ली. बीजेपी ने मंगलवार को निर्णय किया कि वह अपनी सरकारी योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाएगी ताकि आम लोग समझ सकें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार उनके लिए क्या कर रही है. यह निर्णय मंगलवार सुबह बीजेपी की संसदीय दल की बैठक में लिया गया. इस बैठक में खुद पीएम मोदी और बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी मौजूद थे. इसका उद्देश्य लोगों को सरकारी योजनाओं से अवगत कराना है.
 
बैठक के बाद बीजेपी के उपाध्यक्ष मुख्तार अब्बास नकवी ने बताया कि लोगों को जन हितकारी योजनाओं से अवगत कराना जरूरी है. साथ ही पार्टी के तीसरे केंद्रीय बजट 20016-17 को लोकसमर्थक बताया. नकवी ने कहा कि वित्त मंत्री अरुण जेटली और नायडू ने सांसदों से कहा कि एक मोदी सरकार के अच्छे कार्यों का प्रसार युद्धस्तर पर करने की जरूरत है, साथ ही कांग्रेस के दुष्प्रचार अभियान का भी जोरदार ढंग से पर्दाफाश करें. नेताओं ने कहा कि गरीब, किसानों और कमजोर वर्ग बजट से संतुष्ट दिख रहे हैं. कई वर्षों के बाद गांवों के लिए ऐसा बजट पेश किया गया है. बजट में प्रयास किया गया कि कतार में खड़े आखिरी आदमी तक का विकास हो.
 
नकवी ने कहा, “इस साल का बजट विस्तृत है और बजटीय योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाना व उन्हें इसके प्रति जागरूक बनाने के लिए हम लोगों को युद्धस्तर पर जन आंदोलन शुरू करना होगा.” बैठक में केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली और केंद्रीय शहरी विकास एवं संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू मुख्य वक्ता थे. जेएनयू मामले में संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि पार्टी को राष्ट्रवादी स्टैंड पर अक्रामक रुख अपनाना चाहिए.
 
बैठक में संसद में विपक्ष से निपटने को लेकर पार्टी की रणनीति तय की गई, पीएम सांसदों को कुछ अहम गाइडलाइंस भी दिए. सरकार राज्यसभा में जीएसटी बिल को पास कराना चाहती है. लेकिन कांग्रेस के तेवर देख इस पर संशय के बादल नजर आ रहे हैं.