नई दिल्ली. बीजेपी के नेताओं ने ‘आर्ट ऑफ लिविंग’ के तत्वावधान में यमुना नदी के किनारे संपन्न हुए ‘वर्ल्ड कल्चर फेस्टिवल’ की आलोचना करने वालों की कड़ी निंदा की. नेताओं ने कहा कि ऐसे आयोजन को रोकने की कोशिश की गई जिसने न केवल दुनिया को मंत्रमुग्ध कर दिया, बल्कि एक संदेश भी दिया कि भारत सभी सभ्यताओं का पालना है.
 
‘कुछ लोगों के दिमाग प्रदूषित’
शहरी विकास मंत्री एम वेंकैया नायडू ने इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि यमुना स्वच्छ एवं शांत है लेकिन कुछ दिमाग ही प्रदूषित हैं. श्रीश्री रविशंकर की सराहना करते हुए नायडू ने कहा कि उन्होंने पूरी दुनिया को भारत ला दिया. हमें शांति और एक साथ होने की जरूरत है. हम किसी भी जाति, वंश या संस्कृति के हों शांति ही वह चीज है जिसे हम पाना चाहते हैं. 
 
ब्रिटेन की संसद को संबोधित करने का निमंत्रण
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने रविवार को ‘आर्ट ऑफ लिविंग'(एओएल) के संस्थापक श्री श्री रवि शंकर को ब्रिटेन की संसद के निचले सदन ‘हाउस ऑफ कॉमंस’ को संबोधित करने का निमंत्रण दिया है. कैमरन ने अपनी कंजरवेटिव पार्टी के सांसद मैथ्यू ऑफर्ड के जरिए यह बुलावा भेजा है. ऑफर्ड ने यहां एओएल के वर्ल्ड कल्चर फेस्टिवल में भाग लिया.
 
‘कार्यक्रमों पर राजनीति ना हो’
आर्ट ऑफ लिविंग संस्था के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने रविवार को विश्व महोत्सव के आखिरी दिन कहा कि पार्टियों को भारत की प्रतिष्ठा के लिए आयोजित कार्यक्रमों से अपनी राजनीति को दूर रखना चाहिए. रविशंकर ने कहा कि  ‘हमें थोड़ी मेच्योरिटी की जरूरत है. मैं इसकी परवाह नहीं करता लेकिन मैं सभी राजनैतिक दलों से अनुरोध करता हूं कि जब भी इतना भव्य कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा हो तो दलगत राजनीति को दरकिनार करना चाहिए.’