नई दिल्ली. दिल्ली में यमुना किनारे श्री श्री रविशंकर का कार्यक्रम वर्ल्ड कल्चर फेस्टिवल आज से शुरू हो गया है. समारोह का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया. 13 मार्च तक चलने वाले इस कार्यक्रम में दुनियाभर से करीब 35 लाख लोगों के जुटने की उम्मीद है.155 देशों के प्रतिनिधि इसमें शामिल हो रहे हैं. श्रीश्री रविशंकर ने स्टेज पर मेहमानों का स्वागत किया. महोत्सव की शुरुआत 1 हजार 50 पंडितों के वैदिक मंत्रोच्चार से हुई है. कार्यक्रम की शुरुआत से पहले रिमझिम बारिश हुई थी. 
 
 
आर्ट ऑफ लिविंग संस्था के 35 साल पूरे होने पर यह कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है. इस दौरान कई तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रमों के जरिये भारतीय संस्कृति को वैश्विक पटल पर प्रस्तुत किया जाएगा. तीन दिवसीय इस भव्य कार्यक्रम में 155 से ज्यादा देशों से लोगों के शिरकत करने की संभावना है.
 
 
इससे पहले हुए विवाद में श्रीश्री की संस्था ने एनजीटी की तरफ से लगाए गए जुर्माने में से 25 लाख रुपए जमा कर दिए हैं. एनजीटी ने आर्ट ऑफ लिविंग (एओएल) पर पांच करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है. बाकी राशि 4 करोड़ 75 लाख को भरने के लिए चार सप्ताह का समय मिला है.
 
 
इतनी बड़ी भीड़ को काबू करने के लिए सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए हैं. 8000 पुलिस के जवानों के अलावा एसपीजी और एनएसजी की भी तैनाती की गई है. आतंकी हमले के खतरे से निपटने के लिए SWAT कमांडो की तैनाती की गई है. 
 
11 मार्च का कार्यक्रम 
 
  • शाम 5 बजे से वर्ल्ड कल्चर महोत्सव में विशिष्ट हस्तियों के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया है.
  • शाम 5.15 बजे नादस्वरम से महोत्सव की शुरुआत होगी. इसके बाद चंद्रिका टंडन अपनी प्रस्तुति देंगी. चंद्रिका की प्रस्तुति के उपरांत महोत्सव में पहुंची हस्तियां दीप प्रज्ज्वलित करके महोत्सव का विधिवत उद्‍घाटन करेंगी. 
  • शाम 5.35 बजे पूर्व न्यायाधीश आरसी लाहोटी स्वागत भाषण देंगे. इसके बाद एक प्रजेंटेशन के जरिए ऑर्ट ऑफ लिविंग के 35 साल के सफर को दिखाया जाएगा.
  • शाम 5.45 बजे श्रीश्री रविशंकर संबोधित करेंगे. इसके बाद ग्रैंड सिंफनी का कार्यक्रम होगा, जिसमें 8500 संगीतकार अलग अलग प्रस्तुतियां देंगे.
  • वर्ल्ड कल्चर महोत्सव में आर्ट ऑफ लिंविंग से जुड़े 122 देशों के 35 लाख लोग हिस्सा ले रहें हैं.