नई दिल्ली. एनजीटी ने श्री श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग को पैसे जमा करने के लिए 3 हफ्तों की मोहलत दे दी है. एनजीटी ने कहा है कि संस्था 25 लाख आज और बाकी 4.75 करोड़ रूपए तीन हफ्तों के अंदर जमा कर दे.

एनजीटी ने संस्था से पूछा कि आप आज हमें कितना पैसा जमा कर सकते हैं. एनजीटी का कहना था कि आज आप जितना पैसा जमा करेंगे वो हमें स्वीकार होगा. वहीं एनजीटी ने सभी मंत्रालय को कहा है कि कार्यक्रम के दौरान इस बात का ध्यान रखा जाए कि यमुना मैली ना हो.

संस्था ने मांगी थी मदद

बता दें कि 5 करोड़ जुर्माने को लेकर श्री-श्री रविशंकर की संस्था आर्ट ऑफ लिविंग (AOL) ने एनजीटी से बोला था कि इतने कम समय में एक चैरिटेबल संस्था के लिए पांच करोड़ रुपये जुटाना मुश्किल काम है. पैसे भरने के लिए हमें चार हफ्तों की मोहलत चाहिए.

क्या है मामला ?

यमुना किनारे श्री श्री रविशंकर के कार्यक्रम को लेकर एनजीटी ने पांच करोड़ का जुर्माना ठोका है, जिसे भरने के लिए आज तक की डेडलाइन है, हालांकि इससे बेपरवाह श्री श्री यह कहते आ रहे थे कि वह जुर्माना भरने के बजाय जेल जाना पसंद करेंगे. श्री श्री इस आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील करेंगे.

कानून के खिलाफ जाएंगे तो होगी कार्रवाई- एनजीटी

एनजीटी ने पूछा क्या श्री श्री रवि शंकर ने ऐसा कभी कहा की वो पैसा नहीं देंगे बल्कि जेल जाएंगे ? एनजीटी ने कहा की रवि शंकर जैसे बड़े आदमी अगर ऐसा कहते है तो ये कानून के खिलाफ है. एनजीटी ने संस्था को चेतावनी दी और कहा अगर कोई ट्रिब्यूनल को चोट पहुंचाएगा तो कानून अपने हिसाब से करवाई करेगा.