नई दिल्ली. भारतीय वायु सेना ने पहली महिला फाइटर पायलट को शामिल करने का ऐलान कर दिया गया है. इस बात का ऐलान अंतराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर एयर चीफ मार्शल अरुप राहा ने किया है.

एयर चीफ मार्शल कहा कि इसी साल 18 जून को भारतीय वायु सेना को अपनी पहली महिला फाइटर पायलट मिल जाएगी. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वो इसके लिए वे विशेष रूप से रक्षा मंत्री का धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने वायुसेना के इस प्रस्ताव को मंजूरी दी.

एयर फोर्स चीफ ने बताया कि अभी तक तीन महिला ट्रेनी फाइटर स्ट्रीम ज्वॉइन कर चुकी हैं. इनकी ट्रेनिंग का दूसरा फेज चल रहा है. इन महिला फाइटर पायलट की ट्रेनिंग खत्म होने के बाद 18 जून को इनकी पासिंग आउट परेड होगी.

राहा ने यह भी कहा कि महिला फाइटर पायलट को 18 जून के बाद एडवांस्ड जेट ट्रेनिंग दी जाएगी और उसके बाद उन्हें रेगुलर स्क्वाड में शामिल किया जाएगा. वायु सेना में फिलहाल 1500 महिला सैन्यकर्मी हैं जिनमें 94 पायलट और 14 नेवीगेटर हैं.

वायुसेना में महिला फाइटर पायलट को शामिल कराने का विचार लंबे समय से प्रस्तावित था.  महिला पायलट के शामिल होते ही सेना के तीनों अंगों में वायुसेना पहली सेना होगी जिसमें फ्रंट लाइन पर पायलट के तौर पर महिला सैन्यकर्मियों की तैनाती होगी. महिला फाइटर पायलट्स मामले में पाक से पीछे

भारत इस मामले में पाकिस्तापन से भी पीछे हैं. पाकिस्तान ने साल 2013 में ही पांच महिला फाइटर पायलट्स को पाकिस्तातन एयरफोर्स में शामिल कर लिया था.