नई दिल्ली. यमुना एक्सप्रेस वे पर संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी के काफिले से टक्कर होने के बाद जान गंवाने वाले शख्स की बेटी ने गंभीर आरोप लगाए हैं. इस दुर्घटना में मारे गए रमेश कुमार नागर की बेटी संदली ने आरोप लगाया कि स्मृति ईरानी से उन्होंने मदद मांगी थी, लेकिन उन्होंने मदद करने से साफ मना कर दिया.
 
संदली का कहना है कि हादसा के तुरंत बाद स्‍म‍ृति में कार में बैठीं और चली गई. संदली के मुताबिक ‘एक्सीडेंट’ के बाद हमने पापा को जल्दी अस्पताल ले जाने के लिए कहा, लेकिन कोई मदद के लिए तैयार नहीं हआ. उसी वक्त स्मृति ईरानी नीचे उतरीं और सब देखकर फिर से कार में बैठीं और शीशा चढ़ाकर वहां से चली गई.
 
स्मृति ईरानी का दावा 
 
संदली के भाई अभ‍िषेक ने स्मृति ईरानी के बारे में कहा, ‘उन्होंने एक बार भी हमारी हालत जानने की कोश‍िश नहीं की. बता दें कि हादसे के तुरंत बाद मंत्री ने ट्वीट करके घायल की मदद करने की बात कही थी. उन्होंने ट्वीट किया था, ‘जो घायल शख्स कुछ वक्त से सड़क पर था, उसकी मदद की कोश‍िश की और सुन‍िश्चित किया कि वो अस्पताल पहुंच जाए. उनकी सुरक्षा की दुआ करती हूं’.