नई दिल्ली. शारदा चिटफंड घोटाले को लेकर पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सीबीआई चिदंबरम की पत्नी नलिनी चिदंबरम को समन भेजा है. सीबीआई ने समन भेजकर नलिनी को पूछताछ के लिए बुलाया है. नलिनी को सीबीआई के कोलकाता दफ्तर में 10 मार्च को हाजिर होने के लिए कहा गया है. नलिनी चिदंबरम वरिष्ठ वकील हैं और वे शारदा ग्रुप कंपनी के कानूनी मामलों को देखती रही हैं.’
 
सेन ने सौंपा था CBI को लैटर 
शारदा चिटफंड घोटाले में नलिनी का नाम इस केस में पहली बार तक सामने आया, जब अप्रैल 2013 में शारदा कंपनी के बॉस सुदिप्त सेन ने सीबीआई को एक कथित पत्र में दावा किया कि नलिनी को कंपनी के अकाउंट्स से भुगतान किया गया था. सेन ने सीबीआई को 18 पेज का एक लैटर सौंपा था. उन पर आरोप हैं कि वो रुपए नहीं देने पर सुदीप्त सेन को ब्लैकमेल भी करती थीं. 
 
आरोपी के तौर पर नहीं है नाम
नलिनी चिदंबरम का नाम किसी गवाह या आरोपी के तौर पर नहीं बल्कि उस व्यक्ति को तौर पर इस चार्जशीट में शामिल किया गया है. जिसे मंतग की कंपनी जीएनएन इंडिया और सारदा ग्रुप के बीच होने वाली विवादित डील के बारे में जानकारी थी. नलिनी पेशे से वकील हैं.
 
1 करोड़ रुपए बतौर लीगल फीस
साल 2014 के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एक न्यूज एजेंसी ने यह कहा था कि सुदिप्ता सेन ने मनोरंजन सिंह के कहने पर नलिनी को वकील हायर किया था. सेन ने दावा किया था कि नलिनी को शारदा ग्रुप की तरफ से एक करोड़ रुपए बतौर लीगल फीस दिया गया था.