नई दिल्ली. लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष और सांसद पी.ए. संगमा का शुक्रवार को 68 साल की उम्र में निधन हो गया. संगमा दिल्ली आरएमएल अस्तपताल में भर्ती थे. बताया जा रहा है दिल्ली स्थित उनके आवास में उन्हें हार्ट अटैक आया, जिसके बाद उन्हें तत्काल अस्तपाल ले जाया गया. अस्पताल में डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. पीए संगमा का जन्म 1 सितंबर 1947 को मेघालय में हुआ था. उन्होंने शिलांग से स्नातक और फिर असम के डिब्रूगढ़ यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की उपाधि ली. इसके बाद उन्होंने LLB भी की. 
 
लोकसभा में शोक जताते हुए वर्तमान स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा, हंसते हुए सदन कैसे चलाना है ये मैंने माननीय संगमा जी से ही सीखा है. संगमा के निधन पर दो मिनट का मौन रखने के बाद सदन की कार्यवाही सोमवार तक के लिए स्थगित कर दी गई. संगमा 1996 से 1998 तक वह लोकसभा स्पीकर थे. वे आठ बार लोकसभा के सदस्य रहे और 1988 से 1990 तक मेघालय के मुख्यमंत्री भी रहे.
 
पीए संगमा का जन्म मेघालय के वेस्ट गारो में एक सितंबर 1947 को हुआ था. 1977 में वे पहली बार तुरा लोकसभा क्षेत्र से चुनकर लोकसभा पहुंचे थे. वे कांग्रेस के बड़े नेता थे. लेकिन बाद में उन्होंने कांग्रेस पार्टी छोड़ दी और अपनी अलग पार्टी बनायी. उन्होंने सोनिया गांधी के विदेशी मूल के मुद्दे को उठाया था और उनके प्रधानमंत्री बनने का विरोध किया था. उन्होंने राष्ट्रपति पद के लिए भी चुनाव लड़ा था हालांकि वह इसमें हार गए थे.