नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना अधिनियम (मनरेगा) को ‘राज्यों में सही ढंग से लागू न करने पर’ गुरुवार को कांग्रेस की आलोचना की. मोदी ने नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की 2012 की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार की इस योजना को सबसे गरीब राज्यों में प्रभावशाली ढंग से लागू करने में नाकाम रही. मोदी राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब दे रहे थे. 
 
मोदी ने कहा, “खड़गेजी (कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे) ने कहा था कि मनरेगा में भ्रष्टाचार बहुत है. मैं उनसे एक हजार फीसदी सहमत हूं.” उन्होंने कहा कि 2012 की कैग की रिपोर्ट के अनुसार योजना उन राज्यों में अधिक बेहतर तरीके से लागू की गई जहां गरीबों की संख्या कम थी. 
 
मोदी ने कहा, “जिन राज्यों को इस योजना की सबसे ज्यादा जरूरत थी, वहां इस योजना को सबसे कम लागू किया गया. इसका अर्थ है कि हम इस योजना का प्रयोग गरीबी मिटाने के लिए सही ढंग से नहीं कर पाए.” उन्होंने कहा कि कैग रिपोर्ट बताती है कि योजना लागू होने के सात सालों के बाद भी पांच राज्य ऐसे हैं, जहां इस योजना के नियमों का मसौदा तक तैयार नहीं किया गया. मोदी ने कहा, “सबसे दुखद यह है कि इन पांच राज्यों में से चार ऐसे हैं जो इस योजना का गुणगान करते हैं.”