नई दिल्ली. देशद्रोह के आरोपों में गिरफ्तार किए गए जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार और दो अन्य छात्रों की रिहाई की मांग लेकर छात्र आज संसद भवन तक मार्च करेंगे.

जेएनयू छात्र संघ उपाध्यक्ष शेहला राशिद शोरा ने कहा कि देशद्रोह के आरोपों के जरिये जेएनयू, हैदराबाद विश्वविद्यालय और कई जगहों पर असहमति को दबाने के विरोध में हम लोग संसद भवन तक कल एकजुटता मार्च का आयोजन करने जा रहे हैं. इस विरोध मार्च में दिल्ली के विभिन्न विश्वविद्यालयों के शिक्षाविद और छात्र हिस्सा लेंगे. यह मार्च आज दोपहर दो बजे मंडी हाउस इलाके से निकलेगा.

उन्होंने कहा कि हम लोग अपने मुद्दों को प्रधानमंत्री कार्यालय, मानव संसाधन विकास मंत्रालय और गृह मंत्रालय के समक्ष उठाना चाहते हैं. हम लोग दिल्ली पुलिस की कार्यप्रणाली और कन्हैया, उमर और अनिर्बान के खिलाफ शारीरिक हिंसा के खतरे पर हमारी चिंता को दर्ज कराने के लिए राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग और अल्पसंख्यक आयोग से भी संपर्क करेंगे.

शेहला ने कहा कि हमारी मुख्य मांगों में तीनों छात्रों की रिहाई, देशद्रोह का आरोप और विश्वविद्यालय द्वारा निलंबन वापस लेना शामिल है. उन्होंने साथ ही कहा कि हम लोग चाहते हैं कि सरकार विश्वविद्यालयों और शैक्षणिक संस्थानों में जाति आधारित भेदभाव को समाप्त करने के लिए ‘रोहित कानून’ बनाए.

संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरू की फांसी के खिलाफ एक कार्यक्रम के आयोजन को लेकर देशद्रोह के आरोपों में कन्हैया की गिरफ्तारी के बाद से ही परिसर में छात्र आंदोलन कर रहे हैं.