नई दिल्ली. केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि आम बजट में पर्यावरण के लिए कदम उठाए गए हैं. प्रदूषण फैलाने वाले वाहन महंगे किए गए हैं, साथ ही जो वाहन कम प्रदूषण फैलाते हैं उन पर सरकार 30 फीसदी सब्सिडी देगी.
 
इंडिया न्यूज़ के एडिटर इन चीफ दीपक चौरसिया से खास बातचीत में प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि मोदी सरकार पर्यावरण को लेकर गंभीर है. कचरा निवारण के लिए भी सरकार ने कदम उठाए हैं . कुछ आरडब्लूए और जागरुक लोग कचरे से खाद बना रहे हैं, अब खाद की दुकानों में कंपोस्ट खाद भी मिलेगी.
 
इंडिया न्यूज़ से खास बातचीत में प्रकाश जावड़ेकर ने ये भी कहा कि सड़क, ट्रांसमिशन लाइन, रेल लाइन, सिंचाई या पीने के पानी के कैनाल को सरकार ने लीनियर प्रोजेक्ट माना है. लीनियर प्रोजेक्ट की फाइल अब केंद्र सरकार के पास नहीं आएगी.
 
राज्यों में ही इससे जुड़ी कमेटी से इसे मान्यता मिल जाएगी . जावड़ेकर ने कहा कि लीनियर प्रोजेक्ट से वनों का नाश नहीं होता साथ ही देश का विकास होता है.
 
प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि पर्याववरण मंत्रालय के पास अब कोई फाइल पेंडिंग नहीं है. पहले मंत्रालय के पास चार साल तक फाइलें पेंडिंग रहती थीं, अब चार महीने में ही फाइल पास हो जाती है.