जालंधर. पंजाब में आम आदमी पार्टी को मजबूत करने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल रविवार को जालंधर,होशियापुर और गुरदासपुर का दौरा करेंगे. पंजाब दौरे के चौथे दिन वे कारोबारियो, एनआरआई के साथ ही वो रिक्शावालों से भी मुलाकात करेंगे. 
 
स्वर्ण मंदिर जाकर टेका मत्था
अरविंद केजरीवाल शनिवार को अमृतसर में थे. यहां उन्होने स्वर्ण मंदिर जाकर मत्था टेका. केजरीवाल का पंजाब दौरे का कांग्रेस के साथ-साथ बीजेपी-शिरोमणि अकाली दल गठबंधन भी विरोध कर रहे हैं. जालंधर में उनके दौरे से पहले ही केजरीवाल सरकार के खिलाफ बड़े-बड़े पोस्टर लगा गए जिन पर पंजाबी में लिखा था. की वादे कीत्ते, की निभाए. इक साल, दिल्ली बेहाल. 
 
क्या है पोस्टर में?
बता दे कि पोस्टरों में केजरीवाल सरकार ने जो वादे किये थे उनका जिक्र किया गया है. 500 स्कूल खोलने, एक साल में 55 हजार नौकरी देना के वादे के अलावा स्वास्थ्य, सुरक्षा, सीसीटीवी कैमरे लगाने जैसे वादो का जिक्र हुआ. कहा गया कि इन्हें पूरा करने में केजरीवाल असफल रहें हैं. 
 
‘विरोधियों ने लगावाए पोस्टर’
इस पर आम आदमी पार्टी के जालंधर के क्षेत्रीय पर्यवेक्षक राजीव चौधरी का कहाना हैं कि यह विपक्षी दलों का कारनामा है. लोकप्रियता हासिल करने के लिए ये सब किया गया है. विरोधी दलो की बैखलाहट साफ है चैधरी ने कहा विरोधी सामने आकर किया जाता है छुप कर नहीं इस पोस्टर पर ना तो छपवाने वाले का नाम है और ना ही छापने वाले का चैधरी वोले केजरीवाल का दौरा खत्म होते ही इस मुद्दे पर पार्टी की लीगल टीम जरूर कदम उठाएगी.
 
लोगों में चर्चा का विषय
केजरीवाले के विरोध में लगे पोस्टर से दिल्ली सरकार के खिलाफ लगे उक्त पोस्टर लोगों में चर्चा का विषय बन गए हैं. कुछ लोग इन पोस्टरों को सही ठहरा रहे हैं तो कुछ इसे विरोधी पार्टियों की बौखलाहट का नतीजा बता रहे हैं. कुल मिलाकर यह एक बड़ी चर्चा का विषय बन गया है.
 
पोस्टरों में विरोध 
केजरीवाल के दौरे से ठीक पहले अज्ञात लोगों द्वारा गुरदासपुर शहर के कुछ हिस्सों व आसपास क्षेत्र में एक साल दिल्ली विषय से पोस्टर लगाए गए हैं. जिसमें दिल्ली सरकार द्वारा चुनाव के दौरान लोगों से किए वादों को बताते हुए उन्हें पूरा करने में नाकाम रहने की बात की गई है.