चंडीगढ़. हरियाणा के सोनीपत में जाट आरक्षण के दौरान मुरथल हाईवे पर हुए गैंगरेप में नया मोड़ सामने आया है. गैंगरेप मामले में दो चश्मदीद गवाही देने के लिए राजी हुए हैं. मौके पर मौजूद ड्राइवर ने बड़ा खुलासा किया है जिसमें उसका कहना है कि मेरे सामने महिलाओं के कपड़े फाड़े गए.
 
पठानकोट के रहने वाले निरंजन सिंह ने बताया कि मैं दवाईयां लेकर दिल्ली के लिए निकला था लेकिन इस बीच मैं हाईवे पर लगे जाम में फंस गया. इस बीच में मैं ट्रक से नीचे उतरा तो आगे बढ़ कर मैने देखा कि कुछ लड़कें कुछ लड़कियों के पीछे भाग रहे थे. जिसमें वे लड़कियों के साथ जबरदस्ती कर रहे थे और उनके कपड़े भी फाड़ रहे थे.
 
दूसरे चश्मदीद यादविंदर सिंह का कहना कि मैं भी जाम में फंसा हुआ था और इसी बीच मुझे लड़कियों के चिल्लाने की आवाजे आने लगी जिसमें 20 से 25 साल के लड़के महिलाओं को खेतों में खीच कर ले जा रहे थे.
 
जब मैंने नीचे उतर कर देखा तो कुछ युवक लड़कियों पर टूट पड़े. उन युवकों ने उनके ट्रक के शीशे तोड़ दिए जिसमें उनका काफी नुकसान हुआ. उन्होंने बताया कि उन्होंने सौ नंबर पर कॉल की लेकिन किसी ने फोन नहीं उठाया.