नई दिल्ली. पटियाला हाउस कोर्ट में कन्हैया की पेशी के दौरान जेएनयू के टीचर, छात्र और पत्रकारों को पीटने के आरोपी वकील विक्रम सिंह चौहान को गिरफ्तार कर लिया गया. चौहान को बुधवार को तिलक मार्ग थाने में पेश किया गया.

विक्रम ने कहा कि मेरे ऊपर कोई दबाव नहीं था. मैं एक मामूली-सा हिन्दुस्तानी हूं. किसी राजनीतिक पार्टी से नहीं हूं. अभी दोष का निर्धारण नहीं हुआ है. कुछ मीडिया वाले मुझे गुंडा बनाना चाहते हैं. मैं गुंडा नहीं हूं, भारतीय हूं. जांच होने दो दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा. मुझे देश की कानून-व्यवस्था पर भरोसा है.

पटियाला हाउस अदालत परिसर में दो बार -15 और 17 फरवरी को हमला करने वाले वकीलों के समूह की तस्वीरें कैमरे में कैद हो गईं. चौहान वकीलों के हमले का नेतृत्व कर रहा था. हमले की इन घटनाओं पर व्यापक जनाक्रोश फैला और इसकी कड़ी निंदा की गई.

सोमवार को एक समाचार चैनल ने स्टिंग ऑपरेशन दिखाया था, जिसमें वकील जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार की 17 फरवरी को अदालत में पेशी के दौरान उन्हें पीटने की घटना पर शेखी बघारते दिख रहे हैं. पुलिस ने चौहान और उसके कुछ सहयोगियों को कई बार पेशी के लिए तलब किया था.