बहराइच. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर जेएनयू में देशविरोधी नारे लगाने वालों का वोट बैंक की राजनीति के लिए पक्ष लेने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि संसद में बैठे सभी पार्टियों के नुमाइंदे यह बताएं कि राष्ट्रविरोधी नारेबाजी करना अभिव्यक्ति की आजादी है या देशद्रोह.

अमित शाह ने कहा कि आज संसद में चर्चा हो रही है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर देशविरोधी नारों को सहन किया जाए या नहीं. मैं खासकर कांग्रेस और उसके कार्यकर्ताओं से पूछना चाहता हूं कि क्या जो लोग भारत विरोधी नारे लगाते हैं, वे देशद्रोही नहीं हैं.

उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूं कि देश की सबसे बड़ी पंचायत यानी संसद में हर पार्टी के नुमाइंदे बैठे हैं, वे स्पष्ट कर दें कि इस तरह के नारे लगाना अभिव्यक्ति की आजादी है या देशद्रोह है. यह देश की जनता को भी तय करना है.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को घेरते हुए अमित शाह ने कहा, मैं राहुल गांधी से पूछना चाहता हूं कि वह जनता के सामने स्पष्ट करें कि क्या वह इन नारों का समर्थन करते हैं. अगर नहीं करते हैं, तो इसकी निंदा करें.

उन्होंने कहा कि राहुल जी वोट बैंक की राजनीति के लिए इतना नीचे मत उतरिये. यह देश हजारों शहीदों के जीवन की कुर्बानी के कारण आजाद हुआ. आप अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर देश को तोड़ने वाली ताकतों का समर्थन करते हैं.